पिछला

ⓘ एमोशनल वेरीएशन. हर एक जीवी, जिसको सास लेना आता है, उसे कुछ न कुछ तो महसूस होता हैं। यह खाली मानवो के लिए नहि बल्कि हर एक जीवी को होता हैं। इस महसूस को हम इंग्लि ..




                                     

ⓘ एमोशनल वेरीएशन

हर एक जीवी, जिसको सास लेना आता है, उसे कुछ न कुछ तो महसूस होता हैं। यह खाली मानवो के लिए नहि बल्कि हर एक जीवी को होता हैं। इस महसूस को हम इंग्लिश में इमोशनल नाम के द्वारा जानते है। इमोशनल लेवेल एक जीव से दूसरे जीव में भिन्न प्रकार से देखा जाता है। इस तरह हुम फ्ंकोलोजि के द्वारा इस इमोशनल लेवेल या बैलेंस को प्रमानित कर सकते है और उसे बहुत अच्छे से निभा भी सकते हैं। हम कभी भी किसी दूसरे इन्सान के इमोशन का अपमान नहीं करना चाहिए। हम हर समय कुछ न कुछ तो मेहसूस करते हैं। इसे हम भावना भी केहेते हैं। वह भावना समय, दूसरे लोगों और अपने मन के अनुसार बदल्ता रहता हैं। हम हमारे चेहरे के द्वारा इस भावना को व्यक्त करते रहते हैं। हमारी आखों में वह भावनाए प्रकट होती रहती हैं। पर अगर इंसान चाहे तो वह इस भावना को दसरे को दीखाने से रोक सकता है। इसके लिए थोड़े द्रिड सन्कल्प की ज़रूरत होती है। पर ज्यादा से ज्यादा लोग इन भावनाओं को रोक नहीं सकते और चाहे या न चाहते हुए भी दूसरों को अपनी इन भावनाओं को दिखा देते हैं।

मानव जीवि बात के प्रति एक दूसरे से भावनाओं का प्रसार करते हैं। उनकी भाषा शैली, शरीर क उपयोग, आखों का चलन और उनके बोलने के तरीकों से हम उनकी मन की बात को विचाकर सकते हैं। इसका मतलब यह नहीं कि हुम जो भी मन में आये हुम वह सूछ सकते है दूसरे इनसान के बारे में, पर इसके द्वरा हम खालि अनदाज़ा कर सकते है कि दूसरे मानव या जीवि के मन में क्या छलरा हैं। हम मानव जीवि एक दूसरे के आखों और चहरों को देखकर दूसरों की मूड को जान सकते हैं। इस पकार से हम बाद मैं उस व्यक्ति से बात चीत करते हैं। अगर वह आदमि या औरथ खुशि से फूलरे है तोह हम भी उस खुशि मैं भाग लेते है और अगर वह आदमि या औरथ दुखीः है तोह हुम उनके मूड को ठीक करने की कोषिश मैं लग जाते हैं। इस प्रकार एक सूसरे के भवनावों के बल पर एक दूसरों को समज सकते हैं। इसी तरह मनवों मैं बहुत तरह का भावनाए होते हैं। जैसे की श्रुंगार { जहा एक दूसरे का पार करता हैं }, रोध्र { गुस्सा दिखाना }, हास्या { हस मुख }, बीबत्स { असह करना }, वीर { वीरत्व }, भयानक { डर जान }, अदबुत { चकित कोना }, करुना { दया करना }, सहज { समा भावना } यह हमरा शास्तों मैं लिखा गया नव रस हैं। जो भी हम चहरों मैं दिखाते है वोह सब भवनाए इन नव भावनाओं मैं से एक हैं। इस प्रकार एक मानव दूसरे मानव से इन भावनओं के द्वरा भाशन कर देते है।

मानवों का ठीक है, पर उनका क्या जो बात नहीं कर सकते है? एक प्राणि औए मानव के बीछ? दो जानवरों के बीछ? हुम इस प्रश्न को भी दूकर सकते हैं। यह जरूरी नहि कि बात के द्वरा ही हम एक दूसरे से भावना प्रसुत करते हैं। आखे ही काफी है। जिससे हुम एक दूसरे को पहचान कर सकते हैं। इसी प्रकर एक कुत्ता और एक मानव के बीच बोलने की जकोइ ज़रूरत नहीं नोता है। पर आखों के इशारों से ही सब बात प्रकट किया जाता हैं। यह बात खालि कुतों को नहीं बलकी पेड, पौदों और दूसरे जान्वरों को भी हम डाल सकते हैं।

इस प्रकार हुम हमेशा एक दूसरे को ज्यादा समझने की, एक दुसरे की भलाई करेंगे और मिल-जुलकर रहने की कोशिश करते है। इसी प्रकार हमे एक दुसरे की भावनाओं को समझ कर चलना चाहिए। दूसरों को गलत ना समझ के उनकी भावनाओं को महत्व देते हुए अगर हम सबका भावनाओं को एक समान रखते है तो हमारी जिंदगी आसान हो जाती हैं। एक दूसरे को ज्यादा अच्छे से समझ भी सकते है और प्रक्र्ति, पशु और मानव के बीच भी एक अच्छा रिश्ता बना रहेगा।

यूजर्स ने सर्च भी किया:

...
...
...