पिछला

ⓘ गुनाहों का देवता हिंदी उपन्यासकार धर्मवीर भारती के शुरुआती दौर के और सर्वाधिक पढ़े जाने वाले उपन्यासों में से एक है। यह सबसे पहले १९५९ में प्रकाशित हुई थी। इसमे ..




                                     

ⓘ गुनाहों का देवता

गुनाहों का देवता हिंदी उपन्यासकार धर्मवीर भारती के शुरुआती दौर के और सर्वाधिक पढ़े जाने वाले उपन्यासों में से एक है। यह सबसे पहले १९५९ में प्रकाशित हुई थी। इसमें प्रेम के अव्यक्त और अलौकिक रूप का अन्यतम चित्रण है। सजिल्द और अजिल्द को मिलाकर इस उपन्यास के एक सौ से ज्यादा संस्करण छप चुके हैं। पात्रों के चरित्र-चित्रण की दृष्टि से यह हिन्दी के सर्वश्रेष्ठ उपन्यासों में गिना जाता है।

                                     

1. कहानी

इस कहानी का ठिकाना अंग्रेजों के समय का इलाहाबाद रहा है। कहानी के तीन मुख्य पात्र हैं: चन्दर, सुधा और पम्मी। पूरी कहानी मुख्यतः इन्ही पात्रों के इर्दगिर्द घूमती रहती है। चन्दर सुधा के पिता यानि विश्वविद्यालय के प्रोफेसर के प्रिय छात्रों में है और प्रोफेसर भी उसे पुत्र तुल्य मानते हैं। इसी कारण चन्दर का सुधा के यहाँ बिना किसी रोकटोक के आना-जाना लगा रहता है। धीरे-धीरे सुधा कब दिल दे बैठती है, यह दोनों को पता नहीं चलता। लेकिन यह कोई सामान्य प्रेम नहीं था। यह भक्ति पर आधारित प्रेम था। चन्दर सुधा का देवता था और सुधा ने हमेशा एक भक्त की तरह ही उसे सम्मान दिया था।

चंदर सुधा से प्रेम तो करता है, लेकिन सुधा के पापा के उस पर किगए अहसान और व्यक्तित्व पर हावी उसके आदर्श कुछ ऐसा ताना-बाना बुनते हैं कि वह चाहते हुए भी कभी अपने मन की बात सुधा से नहीं कह पाता। सुधा की नजरों में वह देवता बने रहना चाहता है और होता भी यही है। सुधा से उसका नाता वैसा ही है, जैसा एक देवता और भक्त का होता है। प्रेम को लेकर चंदर का द्वंद्व उपन्यास के ज्यादातर हिस्से में बना रहता है। नतीजा यह होता है कि सुधा की शादी कहीं और हो जाती है और अंत में उसे दुनिया छोड़कर जाना पड़ता है।

पम्मी के साथ चंदर के अंतरंग लम्हों का गहराई से चित्रण करते हुए भी लेखक ने पूरी सावधानी बरती है। पूरे प्रसंग में थोड़ा सेक्सुअल टच तो है, पर वल्गैरिटी कहीं नहीं है, उसमें सिहरन तो है, लेकिन यह पाठकों को उत्तेजित नहीं करता। लेखक खुद इस उपन्यास के कितने नजदीक हैं, इसका अंदाजा उनके इस कथन से लगाया जा सकता है।

.

                                     

2. प्रसिद्ध पंक्तियाँ

इस पुस्तक की कुछ उल्लेखनिए पंक्तियाँ।

  • छह बरस से साठ बरस तक की कौन-सी ऐसी स्त्री है, जो अपने रूप की प्रशंसा पर बेहोश न हो जाए।
  • मनुष्य का एक स्वभाव होता है। जब वह दूसरे पर दया करता है तो वह चाहता है कि याचक पूरी तरह विनम्र होकर उसे स्वीकार करे। अगर याचक दान लेने में कहीं भी स्वाभिमान दिखाता है तो आदमी अपनी दानवृत्ति और दयाभाव भूलकर नृशंसता से उसके स्वाभिमान को कुचलने में व्यस्त हो जाता है।
  • अविश्वास आदमी की प्रवृत्ति को जितना बिगाड़ता है, विश्वास उतना ही बनाता है।
  • जब भावना और सौंदर्य के उपासक को बुद्धि और वास्तविकता की ठेस लगती है, तब वह सहसा कटुता और व्यंग्य से उबल उठता है।
  • ऐसे अवसरों पर जब मनुष्य को गंभीरतम उत्तरदायित्व सौंपा जाता है, तब स्वभावत: आदमी के चरित्र में एक विचित्र-सा निखार आ जाता है।
                                     
  • वर ष फ ल म ट प पण 1967 ग न ह क द वत 1967 ब द ज बन गय म त 1964 ग त ग य पत थर न 1959 नवर ग 1957 द आ ख ब रह ह थ 1955 झनक झनक प यल ब ज
  • अन मल क भ रत य स ग तक र और ग यक ह इन ह न स ग त न र म ण क क र य 1977 म श र क य वह र ष ट र य फ ल म प रस क र और फ ल मफ यर प रस क र व ज त स ग त
  • न भगव न स म नव स जन क रहस य छ न ल य ठ क व स ह ज स क द वत न स वर ग स आग च र कर म नव क स प द थ व क टर औऱ द वत द न ह अपन कर म क
  • 1993 फ र त र कह न य द आई 1993 तड प र 1993 इ स न यत क द वत 1993 सर अर ज न द स 1993 ग न ह 1993 पहच न व र 1993 फ लन हस न र मकल 1993 पहल नश 1993
  • ख ल ड स मत 1988 हम त चल परद स 1988 ग न ह क फ सल 1988 अग न स न ल 1988 व र स 1988 व जय 1987 मज ल श रद द व 1986 प य र ह गय 1986 सम न दर 1986
  • वर ष फ ल म चर त र ट प पण 1987 द ल त झक द य श र मत स हन 1967 ग न ह क द वत 1960 क ह न र
  • मह स ग र म 1990 तकद र क तम श 1990 जख म ज म न 1990 ग न ह क द वत सन खन न 1989 ज द गर श कर न र यण 1989 लड ई अमर 1989 म हब बत क प ग म 1989 लश कर 1989
  • व यक त गत पत र म पण ड त श र धर प ठक न कह थ - प र न प र म य क भ ल ज न ग न ह म द ख ल ह प ठक ज क ओर स प रस पर क मन म ल न य द र करन क यह स र थक
  • ग न ह 1992 त य ग 1991 ग नहग र मध सक स न 1991 प रत ज ञ बद ध 1990 ग न ह क द वत इ स प क टर श ल प वर म 1988 यत म च चल एस य दव 1988 क वरल ल वक ल स ध य

यूजर्स ने सर्च भी किया:

गुनाहों का देवता उपन्यास pdf,

...
...
...