पिछला

ⓘ आईएसआईएस. इस्लामी राज्य जून २०१४ में निर्मित एक अमान्य राज्य तथा इराक एवं सीरिया में सक्रिय जिहादी सुन्नी सैन्य समूह है। अरबी भाषा में इस संगठन का नाम है अल दौल ..




आईएसआईएस
                                     

ⓘ आईएसआईएस

इस्लामी राज्य जून २०१४ में निर्मित एक अमान्य राज्य तथा इराक एवं सीरिया में सक्रिय जिहादी सुन्नी सैन्य समूह है। अरबी भाषा में इस संगठन का नाम है अल दौलतुल इस्लामिया फिल इराक वल शाम। इसका हिन्दी अर्थ है- इराक एवं शाम का इस्लामी राज्य। शाम सीरिया का प्राचीन नाम है।

इस संगठन के कई पूर्व नाम हैं जैसे आईएसआईएस अर्थात् इस्लामिक स्टेट ऑफ इराक एंड सीरिया, आईएसआईएल्, दाइश आदि। आईएसआईएस नाम से इस संगठन का गठन अप्रैल 2013 में हुआ। इब्राहिम अव्वद अल-बद्री उर्फ अबु बक्र अल-बगदादी इसका मुखिया है। शुरू में अल कायदा ने इसका हर तरह से समर्थन किया किन्तु बाद में अल कायदा इस संगठन से अलग हो गया। अब यह अल कायदा से भी अधिक मजबूत और क्रूर संगठन के तौपर जाना जाता हैं।

यह दुनिया का सबसे अमीर आतंकी संगठन है जिसका बजट 2 अरब डॉलर का है। २९ जून २०१४ को इसने अपने मुखिया को विश्व के सभी मुसलमानों का खलीफा घोषित किया है। विश्व के अधिकांश मुस्लिम आबादी वाले क्षेत्रों को सीधे अपने राजनीतिक नियंत्रण में लेना इसका घोषित लक्ष्य है। इस उद्देश्य की प्राप्ति के लिये इसने सबसे पहले लेवेन्त क्षेत्र को अपने अधिकार में लेने का अभियान चलाया है जिसके अन्तर्गत जॉर्डन, इजरायल, फिलिस्तीन, लेबनान, कुवैत, साइप्रस तथा दक्षिणीतुर्की का कुछ भाग आता हैं। आईएसआईएस के सदस्यो की संख्या करीब 10.000 हैं।

                                     

1. प्रचार का प्रपंच

आइएस का प्रचार तंत्र वेहद मजबुत है परंपरागत तोर तरीको से लेकर आधुनिक तकनीक का प्रयोग। बर्बर वीडीयो दृश्यो से लेकर कट्टरपंथ को बढ़ाबा देने बाले संदेशो को प्रचारित - प्रसारित करने के लिए दक्ष लोगो की पूरी टीम मौजूद लेकिन वर्तमान समय में इसका क्षेत्रफल सिकुड़ता जा रहा है।

                                     

2. अपहरण

आइएस के आंतकी बिदेशी नागरिको और गैर मुस्लिमो को बंधक बनाते थे इनको छोड़ने के एवज में मोटी रकम वसूलते थे लेकिन अपहरण से 3 अरब सालाना वसूलते थे तथा वैँको लूटकर भी अधिक धन जुटाता था ।

                                     

3. कच्चा तेल

आइएसआइएस एक समय में 34 हजार से 40 हजार बैरल तक कच्चा तेल बेचकर आइएस प्रतिदिन 10 करोड़ की कमाई करता था। उसके नियंत्रण में इराक और सीरिया के लगभग दस तेल के बड़े कुएँ थे आइएस से तेल खरीदने वाले इसकी तस्करी जार्डन तुर्की और ईरान जैसे देशों में होती थी लेकिन अब ये तेल के कुएं अब आइएस के कब्जे में नहीं है सेना ने स्बतन्त्र करा लिये

                                     

4. आइएसआइएस को विदेशी सहायता

विदेशी संगठन और कुछ देश आइएस को चंदे के रूप में हर महीने करोड़ो रुपये मुहैया कराते हैं वर्ष 2013 में खाड़ी देशों से ही आइएस को करीब 10 करोड़ का चंदा मिला था।

                                     
  • इक न म क ए ड प स द व र ज र व श व क आत व द स चक क क आन स र वर ष 2014 म आईएसआईएस न 11.872 ल ग हत हत क य जबक द सर स थ ध पर रह ब क हर म स गठन न 8386
  • न हमल क आर प इस ल म क स ट ट ऑफ इर क ए ड स र य पर लग य ह ल क न आईएसआईएस न इसक ज म म द र नह ल ह नव बर 2015 प र स हमल नव बर 2015 म ल ह टल
  • सच च व र स ह बग द द ब ब स ह न द अल क यद क भ नह स नत आईएसआईएस ब ब स ह न द आत क क शह श ह अब बक र अल बग द द क पहच न ट व श य
  • स आख र क त न इर क क र द स त न म आत ह ज सक एक अलग प रश सन ह इर क क इत ह स भ रत इर क सम बन ध आईएसआईएस इर क क प र न त ईर क व क प ड य
  • ह गई थ और लगभग दस ल ग घ यल ह गए थ हमल क ज म म द र आत क स गठन आईएसआईएस न अपन सम च र व बस इट आम क द व र ल गई थ हमल क अरब स घ न न द क
  • स एक बन गए जब तक क इस आध क र क त र पर इस ल म र ज य इर क और ल व ट आईएसआईएस द व र 2015 म नष ट नह क य गय थ इसक अध क श ख डहर अभ भ ज व त
  • हमल क उद द श य क पत नह चल ह और उसक क ई अपर ध क र क र ड नह थ आईएसआईएस न हमल क ज म म द र ल और कह क स ट फन न हमल स क छ मह न पहल इस ल म
  • म ज न क म क म ल वह स त बर 2014 क श र आत म य नव बर 2014 म आईएसआईएस क ष त र स ब हर थ फरवर 2015 म उसन अपन पहल गव ह ब ल ज यम क द न क

यूजर्स ने सर्च भी किया:

...
...
...