पिछला

ⓘ घराना-संगीत. घराना, भारतीय शास्त्रीय संगीत और नृत्य की वह परंपरा है जो एक ही श्रेणी की कला को कुछ विशेषताओं के कारण दो या अनेक उप श्रेणियों में बाँटती है। घराना ..




घराना-संगीत
                                     

ⓘ घराना-संगीत

घराना, भारतीय शास्त्रीय संगीत और नृत्य की वह परंपरा है जो एक ही श्रेणी की कला को कुछ विशेषताओं के कारण दो या अनेक उप श्रेणियों में बाँटती है।

घराना परिवार,कुटुंब, हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत की विशिष्ट शैली है, क्योंकि हिंदुस्तानी संगीत बहुत विशाल भौगोलिक क्षेत्र में विस्तृत है, कालांतर में इसमें अनेक भाषाई तथा शैलीगत बदलाव आए हैं।

इसके अलावा शास्त्रीय संगीत की गुरु-शिष्य परंपरा में प्रत्येक गुरु वा उस्ताद अपने हाव-भाव अपने शिष्यों की जमात को देता जाता है। घराना किसी क्षेत्र विशेष का प्रतीक होने के अलावा, व्यक्तिगत आदतों की पहचाबन गया है, यह परंपरा ज़्यादातर संगीत शिक्षा के पारंपरिक तरीके तथा संचार सुविधाओं के अभाव के कारण फली-फूली, क्योंकि इन परिस्थितियों में शिष्यों की पहुँच संगीत की अन्य शैलियों तक बन नहीं पाती थी।

                                     
  • ह तबल व दन क क ल छह घर न ह द ल ल घर न लखनऊ घर न फर र ख ब द घर न अजर ड घर न बन रस घर न प ज ब घर न द ल ल घर न क प रवर तक उस त द स ध र
  • न उन ह प रश क ष त क य व ठ मर क लब धप रत ष ठ ग यक ह व क र न घर न और बन रस ग यक क म ख य ग यक ह उन ह खय ल, ठ मर भजन, द दर कजर
  • म बई स एक ह द स त न श स त र य स ग त ग यक ह वह जयप र - अतर ल घर न स ह ह ल क वह म व त घर न ए ड पट य ल घर न प रभ व त स भ ह ज वन अश व न
  • भ रत म स ग त क सम द ध परम पर रह ह ग न - च न द श म ह स ग त क इतन प र न एव इतन सम द ध परम पर प य ज त ह म न ज त ह क स ग त क प र रम भ
  • ह वह स आर व य स क श ष य ह उनक स ग त क र न घर न क आव ज स स क त और स थ ह ग व ल यर घर न आगर घर न क ब ड श उन म ख ओर ए ट ड ग यन क दर श त
  • ह आ थ य स न य घर न स स ब ध त व दक थ स ग त म उनक महत त वप र ण य गद न क ल ए उत तर प रद श सरक र न उन ह वर ष 1990 म स ग त न टक अक दम प रस क र
  • श स त र य स ग त क ह न द स त न स ग त श ल क सबस प रम ख ग यक म स एक ह प ड त भ मस न ज श क बचपन स ह स ग त क बह त श क थ वह क र न घर न क स स थ पक
  • मह व द य लय रख गय ग व ल यर स थ त इस मह व द य लय म अन क स ग त प र म य न स ग त क श क ष ग रहण क एव र ष ट र य अ तरर ष ट र य स तर पर ख य त प र प त
                                               

प्रेरणा श्रीमाली

प्रेरणा श्रीमाली कथक के जयपुर घराने की एक वरिष्ठ नृत्यांगना हैं। उन्होंने गुरु श्री कुंदनलाल गंगानी से नृत्य में प्रशिक्षण प्राप्त किया। वह वर्ष 2009 के लिए संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार प्राप्तकर्ता हैं।

यूजर्स ने सर्च भी किया:

...
...
...