पिछला

ⓘ समय ..




                                               

अन्तरराष्ट्रीय परमाण्विक काल

अन्तरराष्ट्रीय परमाण्विक काल एक उच्च परिशुद्धता वाला समय का मानक है जो भू-आभ पर कल्पित रूप से गुजरने वाले वास्तविक समय पर आधारित है। स्थलीय समय का यह मुख्य प्रत्यक्षीकरण है।

                                               

उपयोगिता अनुपात

कुल समय के जितने भाग के लिए कोई वस्तु या मशीन सक्रिय अवस्था में रहती है उसे उपयोगिता अनुपात कहते हैं। उदाहरण के लिए, २४ घण्टे में कोई मोटर ६ घण्टे चालू रहती है और शेष समय बन्द रहती है तो उसका उपयोगिता अनुपात ६/२४ = १/४ या ०.२५ है। उपयोगिता अनुपात का प्रयोग किसी भी क्षेत्र में किया जा सकता है किन्तु प्रायः वैद्युत युक्तियों में अधिक होता है, जैसे स्विचिंग पावर सप्लाई में।

                                               

काल समीकरण

काल समीकरण दो प्रकार के सौर कालों के अन्तर को पारिभाषित करता है। यहाँ समीकरण का अर्थ समयान्तर को समाप्त करने के अर्थ में है जो मध्ययुग में किया जाता था।

                                               

तुल्यकालन

यदि किसी प्रणाली में बहुत सारी घटनाएँ हैं तो उन घटनाओं को को सही समय पर और सही क्रम में करने के लिए आवश्यक प्रयत्न तुल्यकालन कहलाता है। उदाहरण के लिए, किसी आर्केस्ट्रा का संचालक आर्केस्ट्रा को तुल्यकालित रखता है। जिस प्रणाली के सभी घटनाएँ तुल्यकालित रूप में घटित होतीं हैं उसे तुल्यकालिक तंत्र कहते हैं। इसके विपरीत तंत्र को अतुल्यकालिक तंत्र कहते हैं। आजकल, यदि किसी विशाल प्रणाली के विभिन्न घटक विश्व के विभिन्न भागों देशों में भी फैले हों तो उपग्रह नौवहन प्रणाली की सहायता से उसे भी तुल्यकालित रखना सम्भव है।

                                               

दिन

दिन, समय की एक इकाई है। आम प्रयोग में यह 24 घंटे के बराबर का अंतराल है। यह एक उजियारे दिवस और एक अंधेरी रात का योग है।दुसरे शब्दो मे पृथ्वी द्वारा अपने अक्ष पर एक घूर्णन के समय के बराबर समयावधि को ही दिन कहते है।

                                               

दिन का समय

दिन का समय, या कभी-कभी केवल दिन, पृथ्वी के किसी स्थान पर उस समयकाल को कहते हैं जिस दौरान उस जगह पर सूरज की सीधी या प्रतिबिंबित रोशनी पड़े। इसी तरह किसी भी तारे की परिक्रमा कर रहे अन्य ग्रहों पर स्थित जगहों भी दिन का समय वह समय होता है जब वे उस स्थानीय तारे की चमक से रोशन हों। दिन का समय सूर्योदय होने के बाद से सूर्यास्त होने तक चलता है और किसी भी क्षण में पृथ्वी के लगभग आधे हिस्से पर दिन का समय चल रहा होता है। पृथ्वी के घूर्णन के कारण, ध्रुवीय क्षेत्रों को छोड़कर, सभी जगहों पर दिन की रोशनी और रात के अँधेरे का सिलसिला दैनिक रूप से चलता रहता है।

                                     

ⓘ समय

  • भ व ज ञ न क समय - म न geologic time scale क ल न क रम क म पन क एक प रण ल ह ज स तर क stratigraphy क समय क स थ ज ड त ह यह एक स तर क स रण stratigraphic
  • अ तर रर ष ट र य म नक समय ग र न च म न ट ईम क न म स ज न ज त ह इस समय क न र ध रण इ ग ल ड क ग र न च म स थ त व धश ल स ह त ह इस समय क म नक म नकर
  • प रश त समय क ष त र समन व त स र वत र क समय य ट स - 8 स आठ घ ट घट कर म नक समय द खन पर म लत ह इस क ष त र म म नक समय ग र नव च व धश ल क 120 व
  • वह कभ कभ क र प म उल ल ख क य ह समय व ठक कर य समय ठक कर क अन स र ह न द डब ग न द शक ऐल ल ईस, समय ठक कर क ल ए आव ज ओवर कर द य गय ह व भ न न
  • अ तर ल प रत क ष न भ त क समय कहत ह समय न पन क य त र क घड अथव घट य त र कहत ह इस प रक र हम यह भ कह सकत ह क समय वह भ त क तत व ह ज स घट य त र
  • म नक य म य त तर क ल य स थ न य म ध य समय ह त ह हम र अपन स थ न क समय स थ न य समय कहल त ह इनस हम र समय स ब ध स थ न य आवश यकत त प र ण ह
  • अ ग र ज UTC 5: 30 य ट स स घ ट म नट आग क समय म डल ह ज स वर षपर यन त भ रत और श र ल क म समय ज नन क ल य उपय ग क य ज त ह म नक अन र प
  • च न म नक समय स क ष प म स एसट अ तरर ष ट र य स तर पर च न क समय म डल क कह ज त ह इस घर ल स तर पर ब ज ग समय सरल क त च न 北京时间 भ कहत ह
  • करन क ल ए लग य गए समय और उनक करन क क रम क स च - व च र कर व यवस थ त करन समय प रब धन Time management कहल त ह सम च त समय प रब धन स दक षत म लत

यूजर्स ने सर्च भी किया:

...
...
...