ⓘ मुक्त ज्ञानकोश. क्या आप जानते हैं? पृष्ठ 48




                                               

स्थलीय ग्रह

स्थलीय ग्रह या चट्टानी ग्रह मुख्य रूप से सिलिकेट शैल अथवा धातुओ से बना हुआ ग्रह होता है। हमारे सौर मण्डल में स्थलीय ग्रह, सूर्य के सबसे निकटतम, आंतरिक ग्रह है। स्थलीय ग्रह अपनी ठोस सतह की वजह से गैस दानवों से काफी अलग होते हैं, जो कि मुख्यतः हाइड ...

                                               

मंगल का उपनिवेशण

मानव द्वारा मंगल का उपनिवेशण, अटकल और गंभीर अध्ययन का एक केंद्र बिंदु है, क्योंकि उसकी सतही परिस्थितियाँ और जल की उपलब्धता यकीनन मंगल ग्रह को सौरमंडल में पृथ्वी के अलावा अन्य सबसे अधिक मेहमाननवाज ग्रह बनाता है| चंद्रमा को मानव उपनिवेशण के लिए पहल ...

                                               

अर्सिया मॉन्स

अर्सिया मोन्स तीन ज्वालामुखियों में से सबसे सुदूर दक्षिणी है और मंगल ग्रह के भूमध्य रेखा के नजदीक थर्सिस उठान पर स्थित है। अर्सिया के उत्तर में पावोनिस मोन्स है, आगे और उत्तर में एस्क्रेयस मोन्स है। सौरमंडल में सबसे बड़ा पर्वत ओलम्पस मोन्स इसके उ ...

                                               

काकोरी (मंगल ग्रह)

साँचा:MarsGeo-Crater काकोरी मंगल ग्रह पृथ्वी से करोड़ों मील दूर मंगल ग्रह पर स्थित एक क्रेटर का नाम है। इसका व्यास 29.7 किलोमीटर है और यह मंगल ग्रह के अक्षांश 41.8 व देशांतर 29.9 पर स्थित है। सन् 1976 में इसका नामकरण भारत के एक ऐतिहासिक शहर काकोर ...

                                               

१४२ पोलना

पोलना क्षुद्रग्रह बेल्ट एक बहुत ही गहरे छोटा तारा है। इसकी खोज जोहान पेलिसॉन ने २८ जनवरी १८५७ की थी। और इसका नाम पोला शहर पर रखा गया नाम से जाना जाता है।

                                               

पोलारिस

पोलारिस,साँचा:GreekFont उर्से मिनोरिस, अल्फा उर्से मिनोरिस, आमतौपर उत्तर तारा या, पोल तारा, या ध्रुव तारा, या कभी लोडस्टार) उर्सा माइनर तारासमूह का सबसे चमकता हुआ सितारा है। यह उत्तरीय खगोलीय ध्रुव के सबसे करीब है, जो इसे मौजूदा उत्तरीय पोल तारा ...

                                               

दोहरा क्षुद्रग्रह

दोहरा क्षुद्रग्रह दो क्षुद्रग्रहों का एक ऐसा मंडल होता है जिसमें वे एक-दूसरे से गुरुत्वाकर्षक आकर्षण से सम्बन्धित हों और दोनों अपने सांझे संहति-केन्द्र के इर्द-गिर्द परिक्रमा कर रहे हों। हमारे सौर मंडल के क्षुद्रग्रह घेरे में ऐसे कई दोहरे क्षुद्र ...

                                               

डेल्टा स्कूटी परिवर्ती तारा

डेल्टा स्कूटी परिवर्ती एक प्रकार के परिवर्ती तारे होते हैं जिनकी तेजस्विता में तारे की सतह पर होने वाली त्रिज्याई और अत्रिज्याई घड़कनों के कारण बदलाव होते हैं। यह तारे अंतरिक्ष में दूरी मापने के लिए बहुत उपयोगी होते हैं और इनके प्रयोग से बड़ा मॅज ...

                                               

अधिमिलन पत्र (जम्मू और कश्मीर)

जम्मू और कश्मीर के भारतीय संघ में अधिमिलन का पत्र एक विधिक प्रपत्र है जिस पर जम्मू और कश्मीर की रियासत के महाराजा हरि सिंह ने 26 अक्टूबर 1947 को हस्ताक्षर किए थे। इस प्रपत्पर हस्ताक्षर करके महाराजा ने भारतीय स्वतन्त्रता अधिनियम १९४७ के प्रावधानों ...

                                               

कश्मीर

यह भारतीय उपमहाद्वीप के सबसे उत्तरी भौगोलिक क्षेत्र के बारे में है, जिसमें भारतीय जम्मू और कश्मीर, आज़ाद कश्मीऔर गिलगित-बाल्टिस्तान के पाकिस्तानी प्रशासित क्षेत्और चीनी प्रशासित क्षेत्र के अक्साई चिन और ट्रांस काराकोरम ट्रैक्ट । भारतीय राज्य का ल ...

                                               

कश्मीर घाटी

कश्मीर घाटी, जिसे कश्मीर की घाटी के रूप में भी जाना जाता है, भारत द्वारा प्रशासित कश्मीर क्षेत्र के हिस्से में एक अंतरमहाद्वीपीय घाटी है। घाटी दक्षिण पश्चिम में पीर पंजाल रेंज और उत्तर-पूर्व में मुख्य हिमालय पर्वत श्रृंखला से घिरा हुआ है। यह लगभग ...

                                               

जम्मू और कश्मीर (केंद्र शासित प्रदेश)

जम्मू और कश्मीर भारत का एक केंद्र शासित प्रदेश है। यह भारतीय उपमहाद्वीप के उत्तरी भाग में स्थित है, और कश्मीर के बड़े क्षेत्र का हिस्सा है, जो 1947 से भारत, पाकिस्तान और चीन के बीच विवाद का विषय रहा है। नियंत्रण रेखा क्रमशः जम्मू और कश्मीर को पश् ...

                                               

पनुन कश्मीर

पनुन कश्मीर कश्मीर के विस्थापित हिन्दुओं का संहठन है। इसकी स्थापना सन् १९९० के दिसम्बर माह में की गयी थी। इस संगठन की मांग है कि काश्मीर के हिन्दुओं के लिये कश्मीर घाटी से एक अलग राज्य का निर्माण किया जाय। ध्यातव्य है कि सन १९९० में कश्मीर घाटी स ...

                                               

पाडडर

पाडडर भारत के उत्तरी राज्य जम्मू और कश्मीर के किश्तवाड़ जिले में एक दूरस्थ, दर्शनीय घाटी है। यह किश्तवाड़ जिले के पूरे उत्तर-पूर्वी हिस्से को कवर करता है, जो उत्तर में ज़ांस्कर की सीमा पर है, पूर्व में पांगी, हिमाचल प्रदेश और पश्चिम में मारवाह-वद ...

                                               

मानसर सरोवर

जम्मू से ६२ कि.मी दूर स्थित मानसर झील एक सुंदर सरोवर है जिसको जंगलों से ढंके पहाड़ घेरे हुए हैं। यह झील लगभग १ मील लम्बी और आधा मील चौड़ी है। 32°41′46″N 75°08′49″E जम्मू से निकटस्थ स्थित शहर से बाहर के भ्रमण के लिये एक लोकप्रिय स्थान है। इस स्थान ...

                                               

हरि निवास महल

महल का निर्माण जम्मू और कश्मीर के अंतिम महाराजा हरि सिंह 1895 - 1961 के द्वारा 20 वीं शताब्दी में किया गया था, जो 1925 में अपने पुराने मुबारक मंडी महल से यहां आकर बस गए थे। यहां उन्होंने बंबई अब मुंबई जाने से पहले, कश्मीर में अपने प्रवास के अंतिम ...

                                               

हरि-तारा धर्मार्थ न्यास

हरि-तारा धर्मार्थ न्यास की स्थापना डॉ॰ कर्ण सिंह ने १९७२ में अपने माता-पिता महारनी तारा देवी और महाराजा हरि सिंह की याद में की। इसी क्रम में उन्होंने जम्मू के अमर महल को संग्रहालय एवं पुस्तकालय में परिवर्तित किया।

                                               

चंचल, पश्चिम बंगाल

चंचल भारत के पश्चिम बंगाल राज्य के मालदा ज़िले में स्थित एक गाँव है। राष्ट्रीय राजमार्ग ३१ यहाँ से गुज़रता है। यह स्थान चंचल महल के लिए प्रसिद्ध है। यह ज़िले का दुसरा सबसे बड़ा कस्बा है और इसी नाम के उपखण्ड का मुख्यालय भी है।

                                               

देबीपुर, पश्चिम बंगाल

देबीपुर भारत के पश्चिम बंगाल राज्य के पूर्व बर्धमान ज़िले में स्थित एक गाँव है। राष्ट्रीय राजमार्ग १३१ए यहाँ से गुज़रता है। यहाँ एक रेलवे स्टेशन भी है।

                                               

बक्खाली

बक्खाली भारत के पश्चिम बंगाल राज्य के दक्षिण २४ परगना ज़िले में स्थित एक गाँव है। यह बंगाल की खाड़ी से तटस्थ है और यहाँ एक सुंदर बालूतट है, जिस कारणवश यहाँ पर्यटक आते हैं।

                                               

मादारीहाट

मादारीहाट भारत के पश्चिम बंगाल राज्य के आलिपुरद्वार ज़िले में स्थित एक गाँव है। यहाँ एक रेलवे स्टेशन भी है। मादारीहाट जलदापाड़ा राष्ट्रीय उद्यान की सीमा पर स्थित है।

                                               

मोरग्राम

मोरग्राम भारत के पश्चिम बंगाल राज्य के मुर्शिदाबाद ज़िले में स्थित एक शहर है। यहाँ एक रेलवे स्टेशन है। मोरग्राम राष्ट्रीय राजमार्ग १४ का एक छोर है।

                                               

सोनपुर बाज़ारी

सोनपुऔर बाज़ारी, जिन्हें सामूहिक रूप से सोनपुर बाज़ारी कहा जाता है, भारत के पश्चिम बंगाल राज्य के पश्चिम बर्धमान ज़िले में एक-दूसरे के समीप स्थित दो गाँव है। राष्ट्रीय राजमार्ग १४ यहाँ से गुज़रता है।

                                               

हासिमारा

हासिमारा भारत के पश्चिम बंगाल राज्य के आलिपुरद्वार ज़िले में स्थित एक गाँव है। यहाँ एक रेलवे स्टेशन भी है। यहाँ से भूटान की अंतर्राष्ट्रीय सीमा केवल 17 किमी दूर है।

                                               

कश्मीरी हंगुल

हंगुल एक उत्तर भारत और पाकिस्तान, ख़ासकर कश्मीर, में पायी जाने वाली लाल हिरण की नस्ल है। यह जम्मू और कश्मीर का राज्य पशु है। हंगुल का वैज्ञानिक नाम "सॅर्वस ऍलाफस हंगलु" है।इसकी स्थापना सन 1970 में हुई।।

                                               

कचार

असम में स्थित कचार पहाड़ों, जंगलों और मैदानों का अनोखा संगम है। यह बहुत खूबसूरत पर्यटन स्‍थल है। कचार उत्तर, पूर्व और दक्षिण दिशा में गुलाबी पहाड़ियों से घिरा हुआ है। इसके जंगल बहुत खूबसूरत हैं और पर्यटकों को बहुत पसंद आते हैं। इन जंगलों में पर्य ...

                                               

कमता राज्य

चक्रध्वज 1460–1480 नीलध्वज 1440–1460 शुक्रांक 1400–1415 रूप नारायण 1285–1300 इन्द्र नारायण 1350–1365 प्रतापध्वज 1305–1325 धर्म नारायण 1325–1330 सिन्धुराज 1260–1285 संध्या 1228–1260 मृगांक 1415–1440 गजांक 1385–1400 शशांक अरिमत्त 1365–1385 सिंहध्वज ...

                                               

बरफूकन

पिकचाइ बरफुकन लाचित बरफुकन लाखुरखुन फैद लालुक सोला बरफुकन लाखुरखुन फैद गगै बरफुकन जन्मी चेङमुन बरफुकन गड़्गञा रजा-शहुर घिनाइ बदनचन्द्र बरफुकन लाहन बरफुकन दमाइ डेका बरफुकन चिर पिकचाइ बरफुकन बुढ़ा चेतिया बरफुकन बदन चन्द्बर फुकन गेन्धेला कलीयाभोमोर ...

                                               

भारतीय उद्यमिता संस्‍थान, गुवाहाटी

भारतीय उद्यमिता संस्‍थान) भारत के असम राज्य के गुवाहाटी में स्थित भारत सरकार का एक स्वयंशासी संस्थान है। है। इसकी स्थापना १९९३ में हुई थी। इसका लक्ष्य उद्यमिता पर ध्यान देते लघु उद्योग क्षेत्र में प्रशिक्षण, गवेषणा और परामर्श देना है। संस्थान ने ...

                                               

सगाली

सगाली भारत के अरुणाचल प्रदेश राज्य के पपुम पारे ज़िले में स्थित एक गाँव है। यह ज़िले के मुख्यालय, युपिआ, से 25 किमी पश्चिम में स्थित है। राष्ट्रीय राजमार्ग १३ शहर से गुज़रता है।

                                               

कमान मिश्मी

कमान मिश्मी या मिजू मिश्मी, तिब्बत और अरुणाचल प्रदेश के मिश्मी लोगों की तीन जनजातियों में से एक हैं। भारत में इस समुदाय के सदस्य अंजॉ और लोहित ज़िलों में स्थित हैं। मिजू गुट का दावा है कि वे बर्मा के कचिन क्षेत्र से आए हैं। वे तिब्बती-बर्मी भाषा- ...

                                               

मिश्मी लोग

मिश्मी या देंग भारत के अरुणाचल प्रदेश राज्य और तिब्बत में बासने वाले एक मानव समुदाय का नाम है। यह तीन क़बीलों में बंटा है - इदु मिश्मी, दिगारू और मिजू मिश्मी । मिश्मी लोग मध्य अरुणाचल प्रदेश के पूर्वोत्तरी छोर में बसते हैं जो ऊपरी और निचली दिबांग ...

                                               

ह्रूसो लोग

ह्रूसो या आका भारत के अरुणाचल प्रदेश राज्य में बासने वाले एक समुदाय का नाम है। वे एक तिब्बती-बर्मी भाषा बोलते हैं। इनका निवास पश्चिम सिआंग ज़िले के थ्रिज़िनो, भालुकपोंग, बुरागाँव, जमीरी, पलीज़ी और कुप्पी क्षेत्रों में है, हलांकि वे पूर्व सिआंग ज़ ...

                                               

ग्लो झील

अरुणाचल प्रदेश के लोहित जिला में स्थितयह झील बहुत खूबसूरत है और समुद्रतल से 5000 मी. की ऊंचाई पर स्थित है। इसका क्षेत्रफल लगभग 8 वर्ग किलोमीटर है। झील के आसपास के दृश्य भी बहुत आकर्षक हैं। इस झील से पर्यटक बर्फ से ढ़की चोटियों को देख सकते हैं। इन ...

                                               

डोंग

भारत की पूर्व दिशा में स्थित डोंग बहुत खूबसूरत है। यह अरुणाचल प्रदेश के लोहित जिला में स्थित है। भारत में सूरज की सबसे पहली किरण इसी गांव पर पड़ती है। यह तेजू से 200 किलोमीटर की दूरी पर वेलोंग सर्किल में स्थित है। यहां के सड़क मार्ग काफी अच्छे है ...

                                               

आंध्र मेडिकल कॉलेज

आंध्र मेडिकल कॉलेज आंध्र प्रदेश का एक चिकित्सा महाविद्यालय है। यह एनटीआर स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय से संबद्ध शिक्षा संस्थान है। यह आंध्र प्रदेश का सबसे पुराना चिकित्सा महाविद्यालय है। इसकी स्थापना के इतिहास को देखें तो पता चलता है कि यह भार ...

                                               

गाजुवाका

गाजुवाका एक उपनगर है जो विशाखापट्टनम शहर, के १५ किलोमीटर दक्षिण में स्थित है। यहाँ कई विशाखापट्टनम के भारी उद्योग, जैसे हिंदुस्तान पेट्रोलियम, वैज़ाग स्टील इत्यादि निकट होने के कारण गाजुवाका ने वैज़ाग के प्रतिबिंब के समान ही विकास देखा। गाजुवाका ...

                                               

चेमुरू

चेमुरू, जिसे चेमुर भी कहा जाता है, भारत के आन्ध्र प्रदेश राज्य के चित्तूर ज़िले में स्थित एक गाँव है। यह स्वर्णामुखी नदी के पास बसा हुआ है।

                                               

मल्कापुरम

मल्कापुरम एक उपनगर है, जो विशाखापट्टणम शहर के लगभग ११ किलोमीटर दक्षिण में स्थित है; यह भारत के आंध्र प्रदेश राज्य में है। मल्कापुरम में विशाखापट्टणम के कई भारी उद्योग बसे हैं, मसलन- हिंदुस्तान पेट्रोलियम, विशाखापट्टणम बंदरगाह, हिंदुस्तान शिपयार्ड ...

                                               

जहाँगीर महल

आगरा किले में स्थित जहाँगीर महल का निर्माण अकबर ने कराया था। आगरा किले में यह सबसे बड़ा आवासीय भवन है। इस भवन में हिन्दू और एशियाई वास्तुकला का बहतरीन मिश्रण देखने को मिलता है।

                                               

दयाल बाग

दयालबाग की स्थापना राधास्वामी सत्संग के पांचवे संत सत्गुरु परम गुरु हुजूर साहब जी महाराज ने की थी। दयालबाग की स्थापना भी बसन्त पंचमी के दिन 20 जनवरी 1915 को शहतूत का पौधा लगा कर की गई थी। दयालबाग राधास्वामी सत्संग का हेडक्वाटर है और राधास्वामी सत ...

                                               

दीवान-ए-आम

दीवान-ए-आम आगरा किले में स्थित मुगल बादशाह का प्रमुख सभागार था। इसीमें मयूर सिंहासन या तख्ते ताउस स्थापित था इस सभागार का प्रयोग आम जनता से बात करने और उनकी फरयाद सुनने के लिये होता था।

                                               

दीवान-ए-ख़ास

निर्माण शाहजहां ने करवाया। खूबसूरती से तराशी गई यह इमारत दीवान-ए-खास के पास स्थित है। यही वह जगह है जहां औरंगजेब की कैद में शाहजहां ने अपनी जिंदगी के आखिरी सात साल बिताए। माना जाता है कि यहां से ताज का सबसे सुंदर नजारा दिखाई पड़ता है जो अधिक प्रद ...

                                               

सुहेलदेव सुपरफास्ट एक्सप्रेस

सुहेलदेव सुपरफास्ट एक्सप्रेस आनंद विहार टर्मिनल रेलवे स्टेशन से गाजीपुर सिटी उत्तरी रेलवे से जुड़ी एक सुपरफास्ट ट्रेन है जो कि भारत में गाजीपुर शहर और आनंद विहार टर्मिनल के बीच चलती है। यह वर्तमान में 22419/22420 ट्रेन नंबरों के साथ सप्ताह के आधा ...

                                               

अकोस

"अकोस"श्रीकृष्णजी की नगरी मथुरा का एक छोटा सा सुरम्य गावं है। ब्रजक्षेत्र के सुदूर ग्रामीण अंचल में स्थित अकोस गावँ कई ऐतिहासिक और धार्मिक स्थानों के मध्य यमुना के तट पर बसा हुआ है। अकोस श्रीकृष्ण के ज्येष्ठ भ्राता बलदाऊकी नगरी बलदेव नगर से जुड़ा ...

                                               

अतरौली हरदोई

अतरौली एक गाँँव है जो कि भारत के उ॰प्र॰ राज्य में जिला हरदोई में जिला मुख्‍यालय से करीब 70 किलोमीटर दूर संडीला तहसील में स्थित है। अतरौली में पुलिस स्‍टेशन, बैंक, स्‍कूल, कालेज, बाजार आदि सुविधाएं उपलब्‍ध हैं। इस कस्‍बे मेंं एक प्रसिद्ध विद्यालय ...

                                               

अबुबकर नगर

देवरिया शहर के पुराने क्षेत्रों में से एक अबुबकर नगर का नाम देवरिया के प्रशिद्ध शिक्षाविद, हकीम और अध्यापक मौलाना हकीम अबुबकर के नाम पर रखा गया है।मौलाना अबुबकर का जन्म 19 अक्टूबर 1879 को कलकत्ता में हुआ था। महमूद अली और बेगम शाहीन खान के चार पुत ...

                                               

अमोढ़ा

पुराने समय में अमोढ़ा केवल गाँव नहीं था बल्कि एक महत्वपूर्ण क्षेत्रीय राज था जिसमें काफ़ी सारे गाँव आते थे। अमोढ़ा चौदहवीं सदी में कायस्थ वंशीय राजाओं द्वारा शासित था। बाद में यहाँ सूर्यवंशी लोगों का शासन हुआ। 1857 के स्वतंत्रता संग्राम में यहाँ ...

                                               

कमलापुर

कमलापुर उत्तर प्रदेश राज्य, भारत के सीतापुर जिले में सिधौली तहसील में एक छोटा गांव / गांव है। यह महोली पंचायत के अंतर्गत आता है। यह लखनऊ डिवीजन से संबंधित है। यह जिला मुख्यालय सीतापुर से दक्षिण की ओर 25 किलोमीटर स्थित है। राज्य की राजधानी लखनऊ से ...

                                               

कुंडेसर

कुंडेसर, उत्तर प्रदेश में गाजीपुर जिले का एक गाँव है। राजा भैरव शाह के सबसे बड़े पोते तलकुकर बाबू माधव राय ने गंगा नदी के किनारे पर 1507 ई डी में इसको स्थापित किया था। राजा मल्हान दीक्षित की पांचवीं पीढ़ी में, राजा भैरो शाह अंतिम व्यक्ति थे जो सा ...