ⓘ मुक्त ज्ञानकोश. क्या आप जानते हैं? पृष्ठ 284




                                               

मत्तविलास प्रहसन

मत्तविलास प्रहसन एक प्राचीन संस्कृत एकांकी नाटक है। यह सातवीं शताब्दी की शुरुआत में विद्वान राजा महेन्द्रवर्मन प्रथम द्वारा लिखित दो महान एकांकी नाटकों में से एक है। यह संस्कृत का प्राचीनतम प्रहसन है। यह प्रहसन छोटा होने पर भी बड़ा रोचक है। इसमें ...

                                               

मुद्राराक्षस

मुद्राराक्षस संस्कृत का ऐतिहासिक नाटक है जिसके रचयिता विशाखदत्त हैं। इसकी रचना चौथी शताब्दी में हुई थी। इसमें चाणक्य और चन्द्रगुप्त मौर्य संबंधी ख्यात वृत्त के आधापर चाणक्य की राजनीतिक सफलताओं का अपूर्व विश्लेषण मिलता है। इस कृति की रचना पूर्ववर् ...

                                               

वेणीसंहार

वेणीसंहारम्, भट्टनारायण द्वारा रचित प्रसिद्ध संस्कृत नाटक है। भट्टनारायण ने महाभारत को वेणीसंहार का आधार बनाया है। वेणी का अर्थ है, स्त्रियों का केश अर्थात् चोटी और संहार का अर्थ है सजाना, व्यवस्थित करना या, गुंफन करना। वेणीसंहार नाटक को नाट्यकला ...

                                               

संकल्पसूर्योदय

सङ्कल्पसूर्योदय महान दार्शनिक कवि वेङ्कटनाथ वेदान्त देशिक द्वारा रचित एक उच्च कोटि का आद्योपान्त विशुद्ध रूपक कथात्मक नाटक है। यह वेदान्त दर्शन और वैष्णव धर्म के विशिष्टाद्वैतवाद का प्रतिपादक नाटक है, जिसे कृष्णमिश्र के प्रबोधचन्द्रोदय का एक प्रत ...

                                               

अंधा युग

अंधा युग, धर्मवीर भारती द्वारा रचित हिंदी काव्य नाटक है। इस गीतिनाट्य का प्रकाशन सन् 1955 ई. में हुआ था। इसका कथानक महाभारत युद्ध के अंतिम दिन पर आधारित है। इसमें युद्ध और उसके बाद की समस्याओं और मानवीय महत्वाकांक्षा को प्रस्तुत किया गया है।

                                               

आधे अधूरे

आधे अधूरे मोहन राकेश द्वारा लिखित हिंदी का प्रसिद्ध नाटक है। यह मध्यवर्गीय जीवन पर आधारित नाटक है। इसमें तीन स्त्री पात्र हैं तथा पाँच पुरुष पात्र। इनमें से चार पुरुषों की भूमिका एक ही पुरुष पात्र निभाता है। हिंदी नाटक में यह अलग ढंग का प्रयोग है ...

                                               

आषाढ़ का एक दिन

आषाढ़ का एक दिसन १९५८ में प्रकाशित और नाटककार मोहन राकेश द्वारा रचित एक हिंदी नाटक है। इसे कभी-कभी हिंदी नाटक के आधुनिक युग का प्रथम नाटक कहा जाता है। १९५९ में इसे वर्ष का सर्वश्रेष्ठ नाटक होने के लिए संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया ग ...

                                               

स्कन्दगुप्त (नाटक)

स्कन्दगुप्त, कुमारगुप्त, गोविन्दगुप्त, पर्णदत्त, चक्रपालित, बन्धुवर्म्मा, भीमवर्म्मा, मातृगुप्त, प्रपञ्चबुद्धि, शर्वनाग, कुमारदास धातुसेन, पुरगुप्त, भटार्क, पृथ्वीसेन, खिङ्गिल, मुद्गल, प्रख्यातकीति, देवकी, अनन्तदेवी, जयमाला, देवसेना, विजया, कमला, ...

                                               

ध्रुवस्वामिनी (नाटक)

ध्रुवस्वामिनी जयशंकर प्रसाद द्वारा रचित प्रसिद्ध हिन्दी नाटक है। यह प्रसाद की अंतिम और श्रेष्ठ नाट्य-कृति है। इसका कथानक गुप्तकाल से सम्बद्ध और शोध द्वारा इतिहाससम्मत है। यह नाटक इतिहास की प्राचीनता में वर्तमान काल की समस्या को प्रस्तुत करता है। ...

                                               

लहरों के राजहंस

लहरों के राजहंस में एक ऐसे कथानक का नाटकीय पुनराख्यान है जिसमें सांसारिक सुखों और आध्यात्मिक शांति के पारस्परिक विरोध तथा उनके बीच खड़े हुए व्यक्ति के द्वारा निर्णय लेने का अनिवार्य द्वन्द्व निहित है। इस द्वन्द्व का एक दूसरा पक्ष स्त्री और पुरुष ...

                                               

गुनाहों का देवता

गुनाहों का देवता हिंदी उपन्यासकार धर्मवीर भारती के शुरुआती दौर के और सर्वाधिक पढ़े जाने वाले उपन्यासों में से एक है। यह सबसे पहले १९५९ में प्रकाशित हुई थी। इसमें प्रेम के अव्यक्त और अलौकिक रूप का अन्यतम चित्रण है। सजिल्द और अजिल्द को मिलाकर इस उप ...

                                               

सूरज का सातवाँ घोड़ा

सूरज का सातवाँ घोड़ा धर्मवीर भारती का प्रसिद्ध उपन्यास है। धर्मवीर भारती की इस लघु औपन्यासिक रचना में हितोपदेश और पंचतंत्रवाली शैली में ७ दोपहरी में कही गई कहानियों के रूप में एक उपन्यास निर्मित किया गया है। यह पुस्तक के रूप में भारतीय ज्ञानपीठ स ...

                                               

प्रोतिमा बेदी

प्रोतिमा गौरी बेदी 12 अक्टूबर 1948 - 18 अगस्त 1998 एक भारतीय मॉडल थी जो बाद में भारतीय शास्त्रीय नृत्य, ओडिसी की व्याख्याता बनी, तथा जिन्होनें 1990 में बैंगलोर के पास एक नृत्य गांव नृत्यग्राम की स्थापना की.

                                               

अपर्णा बी. मारार

अपर्णा बी. मारार केरल से शास्त्रीय डैनसेज है। वह नर्तक, आयोजक, कला शिक्षक, कोरियोग्राफर और एक गायक भी है। वह एक इंजीनियर भी है पीएसजी कॉलेज ऑफ टेक्नोलॉजी से वायरलेस कम्युनिकेशन इंजीनियरिंग में डिग्री हासिल की है और भारत में एक सॉफ्टवेयर कंपनी चला ...

                                               

ई कृष्णा ऐय्यर

श्री ई कृष्णा ऐय्यर एक भारतीय वकील, स्वतंत्रता सेनानी, शास्त्रीय कलाकार एवं कार्यकर्ता थे। इनको दक्षिण भारत में भरतनाट्यम को लोकप्रिय बनाने का श्रेय दिया जाता हैं क्योंकि भरतनाट्यम एक ऐसी कला थी जो भारत में मरने की स्थिति में आ गयी थी।

                                               

कुंवर अमर

कुंवर अमर. बाद में उन्होंने अपने नाटक और रोमांस भूमिका के लिए और अधिक प्रसिद्धि प्राप्त की चैनल वी भारत के दिल दोस्ती नृत्य वह रोमांटिक किशोरों नाटक में अपने अभिनय के लिए जाना जाता है। बनने शुरू कर दिया दिल दोस्ती नृत्य. वह इस प्रकार हिंदी टेलीवि ...

                                               

बालासरस्वती

तंजौर बालासरस्वती एक भारतीय नर्तक है जो भरतनाट्यम, शास्त्रीय नृत्य के लिए जानी जाती है। १९५७ में उन्हें पद्म भूषण से सम्मानित किया गया और १९७७ में पद्म विभूषण, भारत सरकार द्वारा दिगए तीसरे और दूसरे उच्चतम नागरिक सम्मान से सम्मानीत किया। १९८१ में ...

                                               

शक्ति मोहन

शक्ति मोहन भारत से एक समकालीन नर्तकी है। वह ज़ी टीवी के नृत्य रियलिटी शो डांस इंडिया डांस की विजेता रही थी। शक्ति ने ज़ी टीवी से 50 लाख का नकद पुरस्काऔर एक सुजुकी वैगनार जीता। शक्ति तीस मार खान फिल्म के शीर्षक गीत के वीडियो पर संक्षिप्त उपस्थित ह ...

                                               

कथक प्रवक्ता की सूची

बिन्दादिन महाराज खोजकर्ता: लखनऊ घराना जानकी प्रसाद खोजकर्ता: बनारस घराना कलिका प्रसाद खोजकर्ता: लखनऊ घराना भानू जी खोजकर्ता: जयपुर घराना वालिद अली शाह खोजकर्ता: लखनऊ घराना

                                               

घराना-संगीत

घराना, भारतीय शास्त्रीय संगीत और नृत्य की वह परंपरा है जो एक ही श्रेणी की कला को कुछ विशेषताओं के कारण दो या अनेक उप श्रेणियों में बाँटती है। घराना परिवार,कुटुंब, हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत की विशिष्ट शैली है, क्योंकि हिंदुस्तानी संगीत बहुत विशा ...

                                               

कम्पोस्टकारी शौचालय

कंपोस्टकारी शौचालय मानव मल के ट्रीटमेंट का सवायु विधि है जिसमें कंपोस्टिंग प्रक्रिया का उपयोग करने के फलस्वरूप बहुत कम जल डालना पड़ता है। यह विधि प्राय वायुहीन विनष्टन से तीव्र होती है। ज्ञातव्य है कि सेप्टिक तंत्रों में वायुहीन विनष्टन पद्धति ही ...

                                               

मूत्रालय

उस शौचालय को मूत्रालय कहते हैं जो केवल मूत्रत्याग के निमित्त बना होता है। मूत्रालय कई तरह के होते हैं - एक व्यक्ति के लिये या अनेक व्यक्तियों के लिये; पुरुषों के मूत्रालय या स्त्रियों के मूत्रालय; व्यक्तिगत मूत्रालय या सामुदायिक मूत्रालय; आदि

                                               

चूल

कब्ज़ा, कुलाबा, चूल या द्वारसन्धि एक ऐसे बेयरिंग को कहते हैं जो दो ठोस वस्तुओं से जुड़ा हो और एक को दूसरे के सम्बन्ध में घूमने दे। उदाहरण के लिए अक्सर किसी दरवाज़े को कब्ज़े के साथ ही दीवार से जोड़ा जाता है और वह उस कब्ज़े पर घुमाकर ही खोला और बं ...

                                               

प्रकाश प्रदूषण

प्रकाश प्रदूषण, जिसे अंग्रेज़ी में फोटो पौल्यूशन या लुमिनस पौल्यूशन के रूप में जाना जाता है, अत्यधिक या बाधक कृत्रिम प्रकाश होता है। अंतर्राष्ट्रीय डार्क-स्काई एसोसिएशन आईडीए IDA) प्रकाश प्रदूषण को कुछ इस प्रकार परिभाषित करता है: यह दृष्टिकोण कार ...

                                               

फ़ोस्फ़र

फ़ोस्फ़र ऐसे पदार्थ को कहा जाता है जिसमें संदीप्ति का गुण हो, यानि विद्युत, तापमान, प्रकाश, इलेक्ट्रान या अन्य किसी तरह से उत्तेजित होने पर वह प्रकाश की किरणें छोड़े। बहुत से फ़ोस्फ़री पदार्थ उत्तेजित होने पर कुछ समय के लिये प्रज्वलित रहते हैं इस ...

                                               

अश्विनी भिड़े-देशपांडे

{{Infobox musical artist |name = अश्विनी भिड़े-देशपांडे |image = Ashwini Bhide-Deshpande Performing at Rajarani Music Festival-2016, Bhubaneswar, Odisha, India.JPG |caption = अश्विनी भिड़े-देशपांडे राजरानी म्यूजिक फेस्टिवल-२०१६ में |image_size = ...

                                               

जॉली अब्राहम

जॉली अब्राहम, जिसे जौली इब्राहीम भी कहा जाता है, एक भारतीय ईसा मसीह का सुसमाचार गायक और मलयालम सिनेमा में एक फिल्मी गायक है। इन्होंने 1970 और 1980 के दशक के दौरान 100 से अधिक मलयालम फिल्म गाने गाए। उनका पहला गीत 1973 में चट्टंबिकल्यानी के लिए था। ...

                                               

धनञ्जय भट्टाचार्य

धनञ्जय भट्टाचार्य बेहतरीन आधुनिक बंगाली गायकों में से एक थे। वह एक महान बहुमुखी श्याम संगीत गायक भी थे। वह अपने भाई पन्नालाल भट्टाचार्य से आठ साल बड़े थे। उन्होंने नदियां थॉम्पसन स्कूल, बल्ली, हावड़ा में अध्ययन किया।

                                               

पन्नालाल भट्टाचार्य

पन्नालाल भट्टाचार्य एक प्रसिद्ध बंगाली गायक थे। उनके द्वारा गए अधिकांश गाने रामप्रसाद सेन और कमलकान्त भट्टाचार्य ने लिखे थे, जिनमें से दोनों बंगाल के शाक कवि थे। वह अपने बड़े भाई धनञ्जय भट्टाचार्य से आठ साल छोटे थे। उन्होंने 36 वर्ष की आयु में आत ...

                                               

विष्णु नारायण भातखंडे

पंडित विष्णु नारायण भातखंडे हिन्दुस्तानी शास्त्रीय संगीत के विद्वान थे। आधुनिक भारत में शास्त्रीय संगीत के पुनर्जागरण के अग्रदूत हैं जिन्होंने शास्त्रिय संगीत के विकास के लिए भातखंडे संगीत-शास्त्र की रचना की तथा कई संस्थाएँ तथा शिक्षा केन्द्र स्थ ...

                                               

संजीव अभ्यंकर

पंडित संजीव अभ्यंकर मेवाती घराना के एक हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत गायक हैं। 1999 में उन्होंने अपने हिंदी फिल्म गॉडमदर के गीत सुनो रे भाइला में सर्वश्रेष्ठ पुरुष पार्श्वगायक के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार जीता। और शास्त्रीय कला के क्षेत्र में नि ...

                                               

राधिका चोपड़ा

राधिका चोपड़ा जम्मू की एक ग़ज़ल गायिका हैं। इनकी गाई ग़जलों में फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ की तुम आए हो ना शब-ए-इंतिजार गुज़री है का नाम आता है। जम्मू के सरकारी महिला कॉलेज से स्नातक होने के बाद उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय की संगीत विभाग से सन्ताकोत्तर औ ...

                                               

सुधीर नारायन

सुधीर नारायन आगरा, भारत के एक उम्दा गज़ल गायक हैं। उनके गुरु आगरा घराने के उस्ताद शब्बीर अहमद खान ने सुधीर नारायन की सोज़ज़दा आवाज़ को और भी सुरीला बना दिया है। सुधीर नारायन के चाहने वाले दुनिया के कोने कोने मैं फैले हुए हैं। उत्तरप्रदेश, भारत मै ...

                                               

रोटी - गुरदास मान

रोटी पंजाब के सुप्रसिद्ध गायक श्री गुरदास मान की नई एलबम का नाम है, जो ३ अगस्त २०१३ को रिलीज़ हुई। इसमें कुल ८ गीत है, जिन्हें संगीतबद्ध किया है, जतिन्दर सिंह-शाह ने। गीत लिखे हैं स्वयं गुरदास मान ने।

                                               

शहीद-ए-मोहब्बत बूटा सिंह

शहीद-ए-मोहब्बत बूटा सिंह 1999 की एक पंजाबी फीचर फ़िल्म है जो कि बूटा सिंह और ज़एनब की एक असली प्रेम कहानी पर आधारित है जिसमें गुरदास मान ने बूटा सिंह और दिव्या दत्ता ने ज़एनब के किरदार निभाए हैं। इस का निर्देशन मनोज पुँज ने किया और इस की निर्माता ...

                                               

मन्नत नूर

मन्नत नूर पंजाबी फ़िल्म इंडस्ट्री के गायक है। लौंग लाची गाने को मन्नत नूर ने गाया है। मार्च 2018 में रिलीज हुई उनकी फिल्म लौंग लाची का टाइटल ट्रैक काफी प्रसिद्ध है। असली नाम केलमाश है। हिंदू है और राजपूत परिवार से ताल्लुक रखती है। जम्मू के जिला र ...

                                               

कुणाल गांजावाला

कुणाल गांजावाला ने अपनी शुरुआती पढाई सेंट पिटर स्कूल मजगांव से पूरी की है।कुनाल बचपन से चार्टेड अकाउंटेंट और अभिनेता बनने की चाह रखते थे। उनकी एक बहन है जोकि-भरतनाट्यम नर्तिका हैं।

                                               

तनिष्क बागची

तनिष्क बागची एक भारतीय संगीतकार हैं, जो बॉलीवुड फिल्मों के लिए संगीत बनाते हैं। उन्होंने बॉलीवुड में २०१५ में तनु वेड्स मनु रिटर्न्स के गीत "बन्नो" से अपने फ़िल्मी करियर की शुरुआत की। फिल्मों के लिए संगीत रचना करने से पहले, उन्होंने टीवी धारावाहि ...

                                               

महेन्द्र कपूर

महेन्द्र कपूर हिन्दी फ़िल्मों के एक प्रसिद्ध पार्श्वगायक थे। उन्होंने बी आर चोपड़ा की फिल्मों हमराज़, गुमराह, धूल का फूल, वक़्त, धुंध में विशेष रूप से यादगार गाने गाए। संगीतकार रवि ने इनमें से अधिकाश फ़िल्मों में संगीत दिया।

                                               

सलमा अख़्तर

अख़्तर की पैदाइश को कुश्तिया गाँव, बांग्लादेश में हुई। वे लालन के गानों को गाती है। उसने संगीत में कोई औपचारिक शिक्षा या पढ़ाई नहीं की। अख़्तर ने 2011 में शिबली सदिक़ से शादी की। उनकी बेटी, स्नेहा, की पैदाइश को जनवरी 1, 2012 पर हुई थी।

                                               

सूरदास

सूरदास हिन्दी के भक्तिकाल के महान कवि थे। हिन्दी साहित्य में भगवान श्रीकृष्ण के अनन्य उपासक और ब्रजभाषा के श्रेष्ठ कवि महात्मा सूरदास हिंदी साहित्य के माने जाते हैं। सूरदास जन्म से अंधे थे या नहीं, इस सम्बम्ध में विद्वानों में मतभेद है।

                                               

धुन

धुन संगीत के सुरों की ऐसे शृंखला होती है जिसे सुनने वाला एक इकाई के रूप में प्रतीत करता है। इसमें तारत्व और ताल का मिश्रण होता है।

                                               

पुरन्दर दास

पुरन्दर दास कर्णाटक संगीत के महान संगीतकार थे। इन्हें कर्णाटक संगीत जगत के पितामह मानते हैं। इनके कई कृतियां समकालीन तेलुगु गेयकार अन्नमचार्य से प्रेरित थे।

                                               

वादी स्वर (संगीत)

राग का सबसे महत्वपूर्ण स्वर वादी कहलाता है। इसे राग का राजा स्वर भी कहते हैं। इस स्वर पर सबसे ज़्यादा ठहरा जाता है और बार बार प्रयोग किया जाता है। किन्हीं दो रागों में एक जैसे स्वर होते हुये भी उन में वादी स्वर के प्रयोग के द्वारा आसानी से फ़र्क ...

                                               

संवादी

भारतीय शास्त्रीय संगीत में प्रत्येक राग में दो स्वर महत्वपूर्ण माने गए हैं। सबसे महत्वपूर्ण स्वर को वादी स्वर कहते हैं और उसके बाद दूसरे सबसे महत्वपूर्ण स्वर को संवादी स्वर कहते हैं। संवादी स्वर का महत्व वादी स्वर से कम होता है लेकिन यह राग की चा ...

                                               

कल्याण थाट

भारतीय संगीत में सभी रागों को किसी न किसी थाट से उत्पन्न माना गया है। थाट संख्या में दस हैं। कल्याण थाट के रागों में तीव्र मध्यम का प्रयोग किया जाता है। कलयान थाट मे

                                               

लाहौर (गाना)

आईएएनएस को दिए एक साक्षात्कार में, रंधावा ने "लाहौर" के बारे में कहा कि "यह एक ऐसी लड़की के बारे में है जिसे मैंने अलग-अलग जगहों से संदर्भित किया है जैसे लाहौर, दिल्ली, मुंबई या लंदन। मैंने उनकी तुलना लाहौर की सुंदरता, मुंबई की चाल, लंदन के मौसम ...

                                               

पार्टी विद भूतनाथ

हनी सिंह एवं अमिताभ बच्चन के अभिनय से सजा यह गीत भूतनाथ रिटर्न्स फिल्म का है। हनी सिंह के रैप से सजा यह गाना बहुत लोकप्रिय हुआ है। संगीत चलचित्र "पार्टी विद भूतनाथ" यू ट्यूब पर देखें

                                               

यार ना मिले (किक)

यार ना मिले सलमान खान की अब तक की सबसे धमाकेदार फिल्म किक का नायाब गाना है। यो यो हनी सिंह की मौजूदगी से इस गाने को बहुत ही सुंदर रूप मिला है। संगीत चलचित्र "यार ना मिले" यू ट्यूब पर देखें

                                               

तीव्र मध्यम

भारतीय शास्त्रीय संगीत में जब कोई स्वर अपनी शुद्धावस्था से ऊपर होता है तब उसे तीव्र विकृत स्वर कहते हैं। ऐसा स्वर मध्यम है। जिसे म के लघु रूप में भी जाना जाता है। अनेक रागों में शुद्ध के साथ अथवा केवल तीव्र मध्यम का प्रयोग होता है। उदाहरण के लिए ...