ⓘ मुक्त ज्ञानकोश. क्या आप जानते हैं? पृष्ठ 186




                                               

पार्क चुंग-हि

पार्क चुंग-हि दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति और १९६१ से १९७९ तक दक्षिण कोरिया को नेतृत्व करने सैन्य जनरल है।

                                               

पुर्णेन्दु कुमार बनर्जी

पुर्णेन्दु कुमार बनर्जी भारत-चीन युद्ध के दौरान चीन में भारत के उपराजदूत थे। उन्हें भारत सरकार ने १९६३ में पद्म श्री पुरस्कार से सम्मनित किया। वो कोस्टा रीका में प्रथम भारतीय राजदूत बने।

                                               

बनारसी दास गुप्ता

बनारसी दास गुप्ता एक स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, राजनीतिज्ञ, और समाज सेवी थे। वे 1 दिसम्बर 1975 से 30 अप्रैल 1977 तक तथा पुनः 22 मई 1990 से 12 जुलाई 1990 तक हरियाणा राज्य के मुख्यमंत्री रहे। उन्होंने स्वतंत्रता सेनानी होते हुए सामाजिक, राजनीतिक एव ...

                                               

बिली अर्जन सिंह

कुँवर बिली अर्जन सिंह विश्वप्रसिद्ध बाघ सरंक्षक एंव पर्यावरणविद् थे। दुधवा नेशनल पार्क के संस्थापक, बाघ एंव तेन्दुओं के पुनर्वासन कार्यक्रम के जनक बिली जीवन पर्यन्त खीरी जनपद के जंगलों के सरंक्षण व सवंर्धन में संघर्षरत रहे। ब्रिटिश-इंडिया में उत् ...

                                               

यशवंत राव मुकने

यशवन्तराव मारतण्डराव मुकने चौथी लोकसभा में दहाणु से भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के उम्मीदवार के रूप सांसद बनी। वो पहली लोकसभा में थाणे और तीसरी लोकसभा में भिवंडी से सांसद रहे। उनकी शिक्षा राजकुमार कॉलेज राजकोट और ओल्ड ब्लुंडेल्ल्स स्कूल, इंग्लैण्ड ...

                                               

राम नाथ काक

राम नाथ काक श्रीनगर में जन्मे। उनकी जीवनी Autumn Leaves: Kashmiri Reminiscences को बहुत ख्याति मिली। ब्रिटिश लेखिका ताया ज़िंकिन के अनुसार यह आधुनिक कश्मीपर एक विशिष्ट, सम्मोहित करने वाली किताब है। इतिहासकार रवीन्द्र कुमार के अनुसार यह कश्मीर के ...

                                               

वसंतदादा पाटील

वसंतदादा पाटील सांगली, महाराष्ट्र के एक भारतीय राजनीतिज्ञ थे। वह भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के राजनीतिज्ञ थे। वह १७ मई १९७७ से १८ जुलाई १९७८ और फिर से २ फरवरी १९८३ से १ जून १९८५ तक महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री थे। उन्होंने १९८५ से १९८७ तक राजस्थान के ...

                                               

वीनू हिम्मतलाल माँकड़

वीनू हिम्मतलाल मन्कद को खेल के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७३ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये गुजरात से हैं। वीनू मांकड का जन्म 12 अप्रैल 1917 को हुआ था। वीनू मांकड ऐसे पहले भारतीय खिलाड़ी हैं जिन्होंने टेस्ट क्रिकेट में 2000 से ...

                                               

ज्योति वेंकटचलम

ज्योति वेंकटचलम भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस से संबद्ध एक भारतीय राजनीतिज्ञ और केरल की पूर्व राज्यपाल रह चुकी हैं। वे 1962 में तमिलनाडु के एगनोर विधानसभा क्षेत्र तथा 1971 में श्रीरंगम विधानसभा क्षेत्र से विधानसभा सदस्य रही हैं। वे 10 अक्टूबर 1953 से ...

                                               

श्याम सरन नेगी

श्याम सरन नेगी, कल्पा, हिमाचल प्रदेश में एक सेवानिवृत्त स्कूल शिक्षक हैं जिन्होंने 1951 में हुए स्वतंत्र भारत के पहले आम चुनाव में सबसे पहला मतदान किया। 1947 में ब्रिटिश राज के अंत के बाद देश के पहले चुनाव हालांकि फरवरी 1952 में हुए, किंतु सर्दी ...

                                               

सत्येन्द्र नारायण सिन्हा

सत्येन्द्र नारायण सिन्हा एक भारतीय राजनेता थे। वे बिहार के मुख्यमंत्री रहे। प्यार से लोग उन्हें छोटे साहब कहते थे। वे भारत के स्वतंत्रता सेनानी, राजनीतिज्ञ,सांसद, शिक्षामंत्री, जेपी आंदोलन के स्तम्भ तथा बिहार राज्य के मुख्यमंत्री रहे हैं।उन्हें 1 ...

                                               

अलेक्सान्द्र सोल्शेनीत्सिन

अलेक्सान्द्र इसयेविच सोल्शेनीत्सिन का जन्म ११ दिसम्बर १९१८ को हुआ था। सोल्शेनीत्सिन रुसी भाषा के २० वी सदी के महत्वपूर्ण लेखक थे। सोल्शेनीत्सिन ने कई उपन्यास, कविताएँ और कहनियों की रचना की। ये १९७० के नोबेल पुरस्कार के विजेता है।

                                               

इंगमार बर्गमान

अर्न्सट इंगमार बर्गमैन स्वीडिश फिल्म निर्देशक, निर्माता और पटकथा लेखक थे। उनकी गणना सर्वकालिक महान फिल्मकारों में की जाती है। बर्गमैन ने अपने जीवनकाल में तकरीबन 60 फिल्मों का निर्माण और निर्देशन किया जिनमें से ज्यादातर की पटकथा उन्होंने खुद लिखी। ...

                                               

कारमेन अमाया

कारमेन अमाया रोमानी मूल की स्पेनी फ़्लामिन्को नृत्यांगना और गायिका थीं। बार्सिलोना की सोमोर्रोस्त्रो झुग्गी बस्ती में जन्मी अमाया को "अपनी पीढ़ी की महानतम स्पेनी जिप्सी नृत्यांगना" माना जाता है। इन्हें फ़्लामिन्को नृत्य इतिहास का सबसे असाधारण व्य ...

                                               

गोविन्दप्प वेङ्कटस्वामि

गोविन्दप्प वेङ्कटस्वामि भारत के एक नेत्रविज्ञानी थे जिन्होने अपना सम्पूर्ण जीवन अन्धापन के ऐसे मामलों को दूर करने के लिए समर्पित कर दिया जिन्हें दूर किया जा सकता है। वे अरविन्द नेत्र चिकित्सालय के संस्थापक एवं भूतपूर्व अध्यक्ष थे जो विश्व में सबस ...

                                               

चारू मुजुमदार

चारू मुजुमदार भारत के एक कम्यूनिस्ट थे। धनी पारिवारिक कड़ियों को छोड़कर उन्होंने एक कठिन क्रान्तिकारी जीवन को चुना। उसका जन्म सिलीगुड़ी के एक खुशहाल ज़मीनदार परिवार में 1918 में हुआ था। आगे के जीवन में उन्होंने हथियारबंद नकसल आन्दोलन में भाग लिया ...

                                               

चौधरी ब्रह्म प्रकाश

चौधरी ब्रह्म प्रकाश यादव भारत के स्वतंत्रता संग्राम सेनानी तथा दिल्ली के प्रथम मुख्यमंत्री थे। वे लोकसभा के सदस्य भी रहे। १९४० में महात्मा गाँधी द्वारा चलाये गये व्यक्तिगत सत्याग्रह आन्दोलन में उन्होने महत्वपूर्ण भूमिका निभायी। १९४२ के भारत छोड़ो ...

                                               

जमाल अब्देल नासेर

जमाल अब्देल नासेर हुसैन मिस्र का दूसरे राष्ट्रपति थे। नासेर ने 1952 के राजशाही को उखाड़ फेंकने में महत्व्पूर्ण भुमिका निभाई थी और मिस्र में भूमि सुधारों की शुरुआत की थी। 1954 में मुस्लिम ब्रदरहुड के सदस्य द्वारा उनपर जानलेवा हमले के प्रयास के बाद ...

                                               

ज़ोहराबाई अम्बालेवाली

ज़ोहराबाई अम्बालेवाली 1930 और 1940 के दशक में हिन्दी सिनेमा में एक भारतीय शास्त्रीय गायिका और पार्श्व गायिका थीं। वह 1944 में रतन के हिट संगीत से, "अँखियां मिलाके जिया भरमाके" और "ऐ दीवाली, ऐ दिवाली" के गीतों में अपनी भारी आवाज़ वाले गायन के लिए ...

                                               

ट क टुकोल

न्याय T. K. Tukol के लिए जाना जाता था अपने विद्वानों के काम पर जैन धर्म, शिक्षा और न्यायपालिका. वह न्यायाधीश था की उच्च न्यायालय के मैसूर. वह अध्यक्षता में मैसूर वेतन आयोग. उन्होंने यह भी सेवा के रूप में वाइस चांसलर के बैंगलोर विश्वविद्यालय. उनके ...

                                               

डेनिस कॉम्पटन

डेनिस चार्ल्स स्कॉट कॉम्पटन अंग्रेज क्रिकेट खिलाड़ी थे जो 78 टेस्ट मैचों में खेलें। काउंटी क्रिकेट में वो मिडलसेक्स की तरफ से खेलते थे। वह चुनिंदा 25 खिलाड़ियों में से एक हैं जिन्होंने प्रथम श्रेणी क्रिकेट में 100 या उससे ज्यादा शतक बनाए हैं। 200 ...

                                               

धीरूभाई ठाकर

डॉ धीरूभाई ठाकर गुजराती विश्वकोश के संपादक और जाने-माने गुजराती साहित्यकार थे धीरूभाई को रणजीत राम स्वर्ण पद प्रदान किया गया था तथा वे गुजराती साहित्य परिषद के अध्यक्ष रह चुके थे।

                                               

नेल्सन मंडेला

नेल्सन रोलीह्लला मंडेला दक्षिण अफ्रीका के प्रथम अश्वेत भूतपूर्व राष्ट्रपति थे। राष्ट्रपति बनने से पूर्व वे दक्षिण अफ्रीका में सदियों से चल रहे रंगभेद का विरोध करने वाले अफ्रीकी नेशनल कांग्रेस और इसके सशस्त्र गुट उमखोंतो वे सिजवे के अध्यक्ष रहे। र ...

                                               

पीरू सिंह

कंपनी हवलदार मेजर पीरू सिंह भारतीय सैनिक थे। उनका १९४७ के भारत-पाक युद्ध में निधन हुआ। उन्हें 1952 में मरणोपरांत परमवीर चक्र से सम्मानित किया गया जो शत्रु के सामने वीरता प्राप्त करने के लिए दिया जाने वाला सर्वोच्च भारतीय सम्मान है।

                                               

सिकन्दर बख्त

सिकन्दर बख्त भारत के राजनीतिज्ञ होने के साथ-साथ स्वतंत्रता सेनानी भी थे। उनकी गणना भारतीय जनता पार्टी के शीर्षस्थ राजनयिकों में की जाती थी। मोरारजी देसाई की जनता सरकार तथा अटल बिहारी वाजपेयी की एनडीए सरकार में वे केन्द्रीय मन्त्री रहे। जिस समय उन ...

                                               

बानू जहाँगीर कोयाजी

बानू जहाँगीर कोयाजी भारतीय चिकित्सा वैज्ञानिक थीं। इन्होंने परिवार नियोजन और जनसंख्या नियंत्रण की दिशा में महत्वपूर्ण योगदान दिया था। वह किंग एडवर्ड मेमोरियल अस्पताल, पुणे की निर्देशिका थीं। उन्होंने समुदाय के स्वास्थकर्मियों के माध्यम से महाराष् ...

                                               

बाल दत्तात्रेय तिलक

बाल दत्तात्रेय तिलक को विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। 1963 में इन्हें शांति स्वरूप भटनागर पुरस्कार से भी सम्मानित किया जा चुका है।

                                               

मुरियल स्पार्क

डेम मुरियल सारा स्पार्एक स्कॉटिश उपन्यासकार, लघु कहानी लेखक, कवि और निबंधकार थी। 2008 में द टाइम्स ने 1945 के बाद से 50 सबसे बड़े ब्रिटिश लेखकों की सूची में स्पार्क को नंबर 8 नाम दिया।

                                               

रुस्तमजी होमसजी मोदी

रुस्तमजी होमसजी मोदी टाटा समूह के अग्रणी सदस्य और टाटा इस्पात के पूर्व अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक थे।

                                               

रमनलाल सी मेहता

रमनलाल सी मेहता को सन २००९ में भारत सरकार द्वारा कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये गुजरात राज्य से हैं। १८ अक्टूबर २०१४ को उनका निधन हो गया।

                                               

राम राघोबा राणे

सेकेंड लेफ़्टीनेंट राम राघोबा राणे परमवीर चक्र से सम्मानित भारतीय सैनिक थे। इन्हें यह सम्मान सन् 1948 मे मिला था। १९१८ में पैदा हुए श्री राणे द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान ब्रिटिश भारतीय सेना में कार्यरत थे। युद्ध के बाद की अवधि के दौरान वह सेना म ...

                                               

शंकरदयाल शर्मा

डॉ शंकरदयाल शर्मा भारत के नवें राष्ट्रपति थे। इनका कार्यकाल २५ जुलाई १९९२ से २५ जुलाई १९९७ तक रहा। राष्ट्रपति बनने से पूर्व आप भारत के आठवे उपराष्ट्रपति भी थे, आप भोपाल राज्य के मुख्यमंत्री रहे तथा मध्यप्रदेश राज्य में कैबिनेट स्तर के मंत्री के र ...

                                               

श्रीधर भास्कर वर्णेकर

श्रीशिवपराज्योदयम् उनकी सर्वाधिक प्रसिद्ध रचना है। इस पर १९७४ में उन्हे साहित्य अकादमी पुरस्कार संस्कृत प्रदान किया गया था। यह ६८ सर्गो में वर्णित एक महाकाव्य है। यह पुस्तक संघ लोक सेवा आयोग के सिविल सेवा परीक्षा के लिये निर्धारित संस्कृत साहित्य ...

                                               

सगत सिंह

लेफ्टिनेन्ट जनरल सगत सिंह भारतीय सेना के तीन-सितारा रैंक वाले जनरल थे। वे गोवा मुक्ति संग्राम और बांग्लादेश मुक्ति युद्ध में अपनी विशिष्ट भूमिका के लिये प्रसिद्ध हैं। अपने सैन्य जीवन में उन्होने अनेकों सम्मनिति पदों की शोभा बढ़ाई। सगत सिंह को प्र ...

                                               

फ्रेड्रिक सैंगर

फ्रेड्रिक सैंगर, एक इंग्लिश जैवरसायनज्ञ थे। ये चौथे व्यक्ति थे, जिन्हें दो बार नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया। इन्होंने न्यूक्लिक अम्ल का अध्ययन किया, खासकर रीकम्बिनैन्ट डी.एन.ए, जिसके लिए उन्हें वॉल्टर गिल्बर्ट तथा फ्रेड्रिक सैंगर के साथ 19 ...

                                               

सैम वॉल्टन

सैम वॉल्टन वॉलमार्ट के संस्थापक थे। वॉल्मार्ट आगे जाकर राजस्व के मामले में दुनिया का सबसे बड़ा निगम बना। साथ-साथ वह दुनिया में सबसे बड़ा निजी नियोक्ता भी है। सैम का जन्म ओक्लाहोमा में किसान परिवार में हुआ था। बाद में उनका परिवार मिज़ूरी में बस गय ...

                                               

क़मर जलालाबादी

उनका जन्म 9 मार्च 1917 को पंजाब परिवार में ओम प्रकाश भंडारी के रूप में हुआ था, अमृतसर, पंजाब, भारत के पास जलालाबाद शहर में। सात साल की उम्र से, उन्होंने उर्दू में कविता लिखना शुरू कर दिया। घर से कोई प्रोत्साहन नहीं था, लेकिन अमर चंद अमर नामक घूमन ...

                                               

क़तील शिफ़ाई

क़तील शिफ़ाई का जन्म 1919 में ब्रिटिश भारत अब पाकिस्तान में मुहम्मद औरंगजेब के रूप में हुआ था। उन्होंने 1938 में क़तील शिफ़ाई को अपने कलम नाम के रूप में अपनाया, जिसके तहत उन्हें उर्दू शायरी की दुनिया में जाना जाता था। "क़तील" उनका "तख़ल्लुस" था औ ...

                                               

इन्द्र कुमार गुजराल

इन्द्र कुमार गुजराल भारतीय गणराज्य के १३वें प्रधानमन्त्री थे। उन्होंने भारतीय स्वतन्त्रता संग्राम में सक्रिय रूप से हिस्सा लिया था और १९४२ के भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान वे जेल भी गये। अप्रैल १९९७ में भारत के प्रधानमंत्री बनने से पहले उन्होंने केन ...

                                               

एडमंड हिलेरी

सर एडमंड हिलेरी ने पहली बार एवरेस्ट फतह करके वहाँ जाने वालों के सपनों को उडा़न और हौसला दिया उनके बाद एवरेस्ट पर जाने वाले भी उसी सम्मान के पात्र हैं जिसके हकदार एडमंड हिलेरी रहे। सर एंडमंड हिलेरी और नेपाल के पर्वतारोही शेरपा तेनजिंग नॉर्गे ने 29 ...

                                               

के वी शर्म

के वी वेंकटेश्वर शर्म भारत के विज्ञान-इतिहासकार थे। उन्होने केरल गणित सम्प्रदाय एवं ज्योतिष के इतिहास पर विशेष कार्य किया। केरल गणित सम्रदाय के अनेकों उप्लब्धियों को प्रकाश में लाने का श्रेय के वी शर्म को जाता है। उन्होने पंजाब विश्वविद्यालय से १ ...

                                               

के शंकरन नायर

के शंकरन नायर को सन १९८३ में भारत सरकार द्वारा प्रशासनिक सेवा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये केरल से थे। इन्होंने रिसर्च एंड एनालिसिस विंग के लिए काम किया था। इन्होंने इनसाइट आईबी एंड रॉ: द रोलिंग स्टोन देट गेदर्स मॉस नामक प ...

                                               

सीताराम केसरी

सीताराम केसरी एक भारतीय राजनीतिज्ञ तथा वे वर्ष 1996 से 1998 तक केन्द्रीय मंत्री और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष रहे।

                                               

के॰ सरस्वती अम्मा

के॰ सरस्वती अम्मा एक मलयालम नारीवादी लेखिका थीं, जिनकी लघु कथाएँ कई अमेरिकी ग्रंथों में संकलित हैं। उन्होंने मलयालम के अलावा अंग्रेजी में भी कहानियां लिखी थीं।

                                               

ग़ुलाम मुस्तफ़ा दुर्रानी

ग़ुलाम मुस्तफ़ा दुर्रानी, सामान्यतः संक्षिप्त रूप में जी॰एम॰ दुर्रानी लोकप्रिय और प्रसिद्ध भारतीय पार्श्वगायक, अभिनेता और संगीत निर्देशक थे।

                                               

गिरिजा कुमार माथुर

गिरिजा कुमार माथुर एक कवि, नाटककाऔर समालोचक थे। गिरिजा कुमार माथुर का जन्म मध्य प्रदेश के अशोक नगर में हुआ।उनके पिता देवीचरण माथुर स्कूल अध्यापक थे तथा साहित्य एवं संगीत के शौकीन थे। वे कविता भी लिखा करते थे। सितार बजाने में प्रवीण थे। माता लक्ष् ...

                                               

खालिद चौधरी

खालिद चौधरी एक बंगाली कलाकाऔर रंगकर्मी थे। उन्होंने सम्भू मित्र, त्रिपति मित्रा और श्यामानन्द जालान सहित विभिन्न हिन्दी और बंगाली नाटकों का निर्देशन किया। वो जीवनभर अविवाहित रहे। उन्हें २०१२ में भारत सरकार ने पद्म भूषण से सम्मानित किया। ३० अप्रैल ...

                                               

जॉन होबोल्ट

जॉन कोर्नोलिस होबोल्ट अमेरिकन एयरोस्पेस अभियंता थे। १४ अप्रैल २०१४ को पार्किंसन रोग सम्बंधी जटिलता के कारण उनका निधन हो गया।

                                               

डोरिस लेसिंग

डोरिस लेसिंग २००७ में साहित्य का नोबेल पुरस्कार प्राप्त करने वाली ब्रितानी लेखिका थीं। उन्हें यह पुरस्कार अपने पाँच दशक लंबे रचनाकाल के लिए दिया गया। महिला, राजनीति और अफ़्रीका में बिताए यौवनकाल उनके लेखन के प्रमुख विषय रहे। १९०१ से प्रारंभ इस पु ...

                                               

वी दक्षिणामूर्ति

वेंकटेश्वरन दक्षिणमूर्ति मलयाली, तमिल एवं हिन्दी सिनेमा के एक अनुभवी कर्नाटक संगीतकार एवं संगीत निर्देशक थे जो मुख्यतः मलयाली सिनेमा में काम करते थे। उन्होंने लगभग 125 फ़िल्मों में काम किया। उन्होंने अपने ५० वर्ष के कार्यकाल में 859 गानों पर का न ...