ⓘ मुक्त ज्ञानकोश. क्या आप जानते हैं? पृष्ठ 183




                                               

शिबपुर-लौगैन गाँव, हवेली-खड़गपुर (मुंगेर)

शिबपुर-लॉगिन हवेली खड़गपुर, मुंगेर, बिहार स्थित एक गाँव में है. Sriगोपालसिंह,Paharpur

                                               

संग्रामपुर गाँव, हवेली-खड़गपुर (मुंगेर)

संग्रामपुर हवेली खड़गपुर, मुंगेर, बिहार स्थित एक गाँव में है. Sriगोपालसिंह,Paharpur

                                               

कछियाना गाँव, लखीसराय

} कछियाना भारत के बिहार राज्य के लखीसराय जिले के लखीसराय ब्लॉक में एक बड़ा गाँव है। यह कछियाना पंचायत के अंतर्गत आता है। यह गाँव क्युल-गया मेन लाइन में परता है। यह मुंगेर डिवीजन का है। यह जिला मुख्यालय लखीसराय से पश्चिम की ओर 11 KM दूर स्थित है। ...

                                               

खवा राजपुर गाँव, सूर्यगढा (लखीसराय)

खावा राजपुर सूर्यगढा, लखीसराय, बिहार स्थित एक गाँव है।यह सुरजगढ़ा प्रखंड का सबसे आदर्श गांव है।यह गंगा नदी के किनारे बसा हुआ है।इस गांव की सरपंच सदन प्रसाद महतो की धर्म पत्नी सुमन कुमारी है।इन के नेतृत्व मैं गांव के हर एक समस्याओं का निपटारा होता ...

                                               

मोहिउद्दीन नगर गाँव, हलसी (लखीसराय)

"मोहद्दीनगर" हलसी, लखीसराय, बिहार स्थित एक गाँव है।यह पंचायत भी है जिसके अंतर्गत मोहद्दीनगर,बिल्ली, नोनफर, दीरा, हरेवा, प्रेमडीहा, महुअड्डी, कुशोखर, शिवोतर, माणिकपुर आते हैं। यही पोस्ट आफिस भी है।

                                               

वालीपुर गाँव, पिपरिया (लखीसराय)

वलीपुर पिपरिया, लखीसराय, बिहार स्थित एक गाँव है। भारत के बिहार राज्य के लखीसराय जिले में पिपरिया ब्लॉक में वलीपुर एक छोटा सा गांव है। यह वलीपुर पंचायत के अंतर्गत आता है। यह मुंगेर डिवीजन से संबंधित है। यह जिला मुख्यालय लखीसराय से उत्तर की तरफ 11 ...

                                               

सिरखिन्डी गाँव, हलसी (लखीसराय)

सिरखिण्डी प्राचीन गांव में से एक है। इस गांव से दक्षिण दिशा 02.50 किलोमीटर सिकान्दरा शेखपुरा रोड को जोड़ता है।उत्तर दिशा चेवाङा बिल्लो रोड को जोड़ता है। ये सिरखिण्डी गांव में जमींदारों के प्राचीन कचहरी स्थित है। यहां तीन शिव मंदिर, एक राम मंदिर ...

                                               

गोविन्दपुर झखराहा

गोविन्दपुर झखराहा भारत में बिहार राज्य के ऐतिहासिक वैशाली जिलान्तर्गत एक छोटा गाँव है। निकटस्थ शहर एवं जिला मुख्यालय हाजीपुर से यह गाँव १३ किलोमीटर पूर्व राष्ट्रीय राजमार्ग पर अवस्थित है। सघन आबादी वाले इस कृषिप्रधान गाँव में बज्जिका बोली जाती है ...

                                               

बाकरपुर

भारत के बिहार राज्य में वैशाली जिला अंतर्गत एक पंचायत है। इसके अंतर्गत गोविन्दपुर झखराहा, दोबरकोठी, गंगाजल, सरमस्तपुर, नीरपुरा-बाकरपुर, शेखपुरा, अहमदपुर गाँव हैं। समूचे पंचायत में बज्जिका बोली जाती है। शिक्षा का माध्यम हिंदी एवं उर्दू है। साक्षरत ...

                                               

मटिया

मटिया एक गांव है, जो कि भारत के बिहार राज्य के वैशाली जिले में स्थित है। यह बिहार के चार जिले से घिरा हुआ है, इसके पूर्व में समस्तीपुर, पश्चिम में सारण, उत्तर में मुजफ्फरपुऔर दक्षिण में पटना है। इसके निकटतम शहर हाजीपुर यहां से लगभग 23 किमी और 31 ...

                                               

कल्याणपुर गांव सारण जिला

कल्याणपुर एक छोटा गांव है और यह भारत के बिहार राज्य के सारण जिला के सोनपुर प्रखंड में स्थित है। यह 43 मीटर की ऊंचाई पर है कल्याणपुर गांव सोनपुर के उप-जिला मुख्यालय से 8 किमी दूऔर छपरा जिला मुख्यालय से 47 किमी दूर स्थित है। 2009 के आंकड़ों के मुता ...

                                               

महाराष्ट्र प्रौद्योगिकी संस्थान

8929359037 महाराष्ट्र प्रौद्योगिकी संस्थान, भारत के महाराष्ट्र राज्य में पुणे नगर में स्थित एक अभियान्त्रिकी संस्थान है। यह संस्थान महाराष्ट्र अभियान्त्रिकी व शैक्षणिक शोध अकादमी) समूह का सबसे पहला संस्थान है। यह 1983 में विश्वनाथ डी कारड द्वारा ...

                                               

खानपुर डागरान

खानपुर डागरान या खानपुर अहीरा या खानपुर अहीर एक गाँव है जो भारतीय राज्य राजस्थान के अलवर जिले के कोटकासिम तहसील का एक गाँव है। यह गाँव खानपुर डागरान अहीरवाल का एक हिस्सा है जहाँ की जनसंख्या में 80 प्रतिशत लोग यादव है। ये यादव जाति के लोग ज्यादातर ...

                                               

खारेड़ा

खारेड़ा राजस्थान के अलवर जिले में स्थित एक गांव है जो मालाखेड़ा तहसील में स्थित है। इस गांव की ग्राम पंचायत भंडोड़ी है जबकि पंचायत समिति उमरैण है। यह जिला मुख्यालय से लगभग 25 किलोमीटर दूर स्थित है।

                                               

देहमी

देहमी सभी जातियों के लोगों के लिए एक पवित्र गांव है। यहाँ इस गाँव में श्री माता मंसा देवी मंदिर स्थित है यह एक हिन्दू धर्म का मंदिर है जो राष्ट्रीय राजमार्ग-8 के पास देहमी गांव में स्थित शक्ति को समर्पित सबसे पवित्र हिंदू मंदिरों में से एक है। मं ...

                                               

चौसला

चौसला, भारत के राजस्थान राज्य में स्थित अलवर जिले की थानागाजी तहसील का एक छोटा सा गाँव है । यह राजस्थान की राजधानी जयपुर सेे 60 किलोमीटर तथा अलवर जिले से 68 किलोमीटर दुर स्थित है।

                                               

झाझीरामपुरा

झाझी रामपुरा राजस्थान के दौसा जिले में, अलवर जिले की सीमा के निकट एक गाँव है जो आस्था के एक प्रमुख केन्द्रों रूप में स्थित है। यह स्थान यहाँ मौज़ूद शिव मंदिर, जिसे श्री ग्यारह रूद्र महादेवके नाम से जाना जाता है, और इसके समीप स्थित गोमुख कुण्ड के ...

                                               

बूढवाल

बूढवाल BOORHWAL BUDHWAL राजस्थान राज्य के अलवर जिले कि बहरोङ तहसील का एक गाँव है 1 यह गाँव अलवर जिला मुख्यालय से ७० किलोमीटर तथा बहरोङ तहसील मुख्यालय से ९ किलोमीटर उत्तर-पश्चिम दिशा में स्तिथ है 1 यहाँ का पिन कोड ३०१७०९ है 1 बूढवाल ग्राम पंचायत म ...

                                               

चौराई

चौराई गाँव ऋषभदेव तहसील में है जो उदयपुर जिले में स्थित है चौराई गाँव के पास कल्याणपुर, भगोर, बिच्छिवाडा, मसारों की ओबरी स्थित है। इस गाँव के मध्य एक वराई माता का मंदिर है। यह गाँव बिच्छिवाडा पंचायत के अंतर्गत आता है। यहाँ पर हनुमान जी का मंदिर भ ...

                                               

बोरज तँवरान

बोरज तँवरान भारत में राजस्थान राज्य के उदयपुर जिले का एक गाँव है। यह सलूम्बर तहसील में आता है और सलूम्बर से 8 किलोमीटर दूर पूर्व में स्थित है। बोरज तँवरान - रावत जोधसिंह द्वितीय 1862-1901 द्वारा गांव बोरज तँवरान का पट्टा भोग, मागणा सहित तेज सिंह ...

                                               

आसलू

आसलू, भारत में राजस्थान राज्य के शेखावाटी क्षेत्र में स्थित चुरू जिले की चुरू तहसील का एक छोटा सा गाँव है। यह दिल्ली-जोधपूर राजमार्ग पर स्थित है। यह जयपुर से 245, बीकानेर से 190 किमी और दिल्ली से 250 किलोमीटर से किमी दूर है।

                                               

गिनड़ी

भारत के राजस्थान राज्य का चूरू जिला विश्व विख्यात थार मरुस्थल का उत्तर-पूर्वी प्रवेश द्वार है। यह् पूरे देश में अधिकतम-न्यूनतम तापक्रम के लिये प्रशिद्ध है। चूरू जिला मुख्यालया से २० किलोमीटर उत्तर, धोरों की तलहटी मॅ बसा छोटा सा खूबसूरत गाँव गिनङी ...

                                               

ददरेवा

ददरेवा भारतीय राज्य राजस्थान के चूरू जिले में स्थित एक गाँव है। यह गांव हिसार-बीकानेर राजमार्ग पर सादुलपुऔर तारानगर के मध्य स्थित है। भारत के महारजिस्ट्रार एवं जनगणना आयुक्त कार्यालय के आंकड़ों के अनुसार सन् 2011 में हुई जनगणना के मुताबिक इस गांव ...

                                               

दूदवा खारा

दूदवा खारा राजस्थान के चूरु जिले का एक गांव है। यहां के हनुमानसिंह बुडानिया ने भारत के स्वतंत्रता आंदोलन में भाग लिया था।हनुमान अंग्रेजी हुकुमत में सिपाही था। खेतूबाई बीकानेर के प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी वैद्य मघाराम जी की बहन, जो दुधवा खारा किस ...

                                               

बरजांगसर

भारत में राजस्थान राज्य के शेखावाटी क्षेत्र में स्थित चूरू जिले की रतनगढ तहसील का एक छोटा सा गाँव है। यह उत्तर- पश्चिम दिशा में रतनगढ से १६ किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह अच्छी तरह जुड़ा हुआ एक गांव है। यह एक अच्छी तरह से डिजाइन गांव है। यह एक ...

                                               

रतनपुरा, चुरू ज़िला

रतनपुरा Ratanpura राजस्थान में चुरू जिले के राजगढ़ तहसील में एक गांव तथा ग्राम पंचायत मुख्यालय है। इसकी स्थापना 1848 ई. में हुई। यह गाँव जिला मुख्यालय चुरू से उत्तर पूर्व में 45 किमी तथा तहसील मुख्यालय राजगढ़ से 17 किमी दक्षिण पश्चिम में स्थित है।

                                               

आवण्डिया

आवण्डिया राजस्थान राज्य के जयपुर जिले की फागी तहसील में एक गाँव है। यह उप-जिला मुख्यालय फागी से 9 किमी दूऔर जिला मुख्यालय जयपुर से 51 किमी दूर स्थित है। जनगणना 2011 की जानकारी के मुताबिक आवण्डिया गांव का स्थान कोड या गांव कोड 079886 है। आवण्डिया ...

                                               

करेडा खुर्द

करेडा खुर्द भारतीय राज्य राजस्थान के जयपुर जिले के चाकसू पंचायत समिति का पंचायत मुख्यालय है। यह चाकसू से 6 किमी पश्चिम में स्थित है। करेडा खुर्द पचांयत मुख्यालय में 8 गांव आते हैं यथा करेडा खुर्द, कल्याणपुरा, रायपुरिया, आजमनगर, उदयपुरिया, आदि। गा ...

                                               

कोटपुतली

कोटपूतली एक शहर तथा नगर पालिका है जो जयपुर जिला राजस्थान में हरियाणा सीमा के पास स्थित है जनसँख्या -२००१ के आंकडो के हिसाब से यहाँ की आबादी ४०१५७ है जिसमे ५३% पुरुष तथा ४७% महिला है, साक्षरता दर ६७% है कोटपूतली एक बड़े शहर और राजस्थान राज्य के जय ...

                                               

झिलाय

झिलाय या झलाय जयपुर स्टेट का प्रथम ठिकाना है जब जयपुर स्टेट में संतान उत्मन्न नहीं होती थी या वंश आगे नहीं बढ़ता था तब ठिकाना झिलाय से ही वंशज गोद ले कर उसका राज तिलक करा जाता था क्योंकि राजपुताना में सदियो से यह परंपरा है कि बड़े भाई के अगर पुत् ...

                                               

कालवा

कालवा राजस्थान के नागोर जिले का एक प्राचीन एवं ऐतिहासिक स्थल है। यह गांव कालू जी डूङी के नाम पर बसाया गया था। कालू जी के पूत्र का विवाह रूपमती कवर से हूआ था पूत्र का नाम महेन्दर था!!

                                               

आकेली

आकेली से निम्नलिखित आशय हो सकते हैं: आकेली, मेड़ता, नागौर - राजस्थान के नागौर जिले की मेड़ता तहसील में स्थित गाँव। आकेली, डेगना, नागौर - नागौर जिले की डेगना तहसील में स्थित गाँव।

                                               

आसन, हनुमान नगर (खिंवताना)

आसन - राजस्थान के नागौर जिलें में स्थित डेगाना से लगभग २१ किलोमीटर उत्तर दिशा में जायल तहसील की सीमावर्ती जगह है, जिसका राजस्व गांव खिंवताना है। इस जगह का इतिहास बहुत ही प्राचीन है। कहा जाता है कि यहां प्राचीन काल में एक संत महापुरुष रहते थे, जिन ...

                                               

कुराडा

कुराडा ग्राम्, तहसील प‍रबतसर, जिला नागोर, राजस्थान में है। इस गाँव में प्राचीन काल में ताँबे की कुछ मात्रा निकली थी! इस गाँव में संत लादुनाथजी महाराज का मन्दिर स्थित है dhanesh choudhary

                                               

सारसण्डा

सारसण्डा आन्तरोली कला ग्राम पंचायत, डेगाना तहसिल जिला नागौर, राजस्थान भारत मे है। सारसण्डा रेण से ९ किलोमीटर पुर्व मे तथा डेगाना जंक्शन से १५ किलोमीटर पश्चिम मे है। यहा पर विजयनाथजी महाराज की स्माधिस्थल है। यहां का मुख्य रोजगार खेती है। पानी की अ ...

                                               

हरनावा

हरनावा राजस्थान के नागौर जिले का एक गांव है। यह बङू से मात्र 7 किमी दूर है। यहां प्रसिद्ध वीराँगना रानाबाई का सन् 1543 में चौधरी जालमसिंह धूण के घर में जन्म हुआ। हरनावा है देव भूमि हरनावा की स्थापना हरजी जी भाटी ने की।हरजी जी भटनेर हनुमान गढ़ के ...

                                               

आउवा

आउवा राजस्थान के पाली जिले के मारवाड़ जंक्शन तहसील का एक प्रसिद्ध गाँव है। यह गाँच मारवाड़ जंक्शन रेलवे स्टेशन से १३ किमी की दूरी पर स्थित है। यहाँ पर भगवान शिव का एक प्राचीन मंदिर है जो ११वीं शदी में निर्मित माना जाता है। आउवा के ठाकुर कुशाल सिं ...

                                               

कोलीवाडा

इस गाँव में तीन आंगनबाडी केन्द्र, तीन सरकारी व तीन निजि विद्यालय है। इस गाँव का मुख्य विद्यालय राजकीय माध्यमिक विद्यालय है। इस विद्यालय की स्थापना सन 1956 में हुई थी। इस गाँव में दो निजी महाविद्यालय भी है ।

                                               

देसूरी

देसूरी राजस्थान के पाली जिले का एक गाँव एवं तहसील मुख्यालय है। यह अरावली पर्वत-श्रेणी के निकट स्थित है। इस तहसील में रणकपुर, परशुराम महादेव मन्दिर, एवं अन्य दर्शनीय पर्यटकस्थल हैं।

                                               

नाडोल

Nadol was originally called Naddula. The Chahamanas of Naddula called Chauhans of Nadol in vernacular legends ruled the town and its surrounding areas during the 10th-12th century CE. Their founder was Lakshmana was a prince of the Shakambhari Ch ...

                                               

सिन्दरली

सिन्दरली राजस्थान के पाली जिले का एक गाँव है। सिंदरली स्थानीय भाषा में हिंदरली के रूप में जाना जाता है। यह मेड़तिया राठोडों का ठिकाना है। king brothers

                                               

अरनोद

अरनोद, राजस्थान के प्रतापगढ़ जिले की तहसील एवं एक प्राचीन कस्बा है। यह प्रतापगढ-पिप्लोदा मार्ग पर स्थित है। इसकी सीमा, मध्य प्रदेश के रतलाम और मंदसौर जिलों से लगती है| अरनोद का प्रराची नाम अरुणोंदय था जिसका अर्थ हैै जहा सबसे पहले सूर्य उगता है । ...

                                               

छोटी सादड़ी

छोटी सादड़ी भौगोलिक स्थिति: 24 डिग्री 23 मिनट उत्तर अक्षांश एवं 72 डिग्री 43 मिनट पूर्वी देशान्तर। राजस्थान के प्रतापगढ़ जिले का एक नगर और सन २००८ से उपखंड मुख्यालय है। भूतपूर्व उदयपुर रियासत के दौरान छोटी सादड़ी जिले का प्रधान क़स्बा था। यह प्रा ...

                                               

देवलिया

देवलिया भी है, प्रतापगढ़, राजस्थान की राजस्व उप-तहसील है। प्रतापगढ़ का पूर्वज यह गाँव पश्चिम में जिला मुख्यालय से पश्चिम में १३ किलोमीटर दूर है, जो समुद्र तल से १८०९ फीट की ऊंचाई पर महाराणा कुम्भा के भाई क्षेत्रकरण ने सन १४३७ में जीता था।

                                               

धरियावद

प्रतापगढ़ जिले की तहसील और उपखण्ड अधिकारी मुख्यालय। पहले उदयपुर जिले का एक उपखंड था- धरियावद, जो राजस्थान सरकार की अधिसूचना २५ जनवरी २००८ को जिला प्रतापगढ़ का गठन किये जाने से इसका हिस्सा बना. सीतामाता वन अभयारण्य की सीमारेखा से जुड़ा यह छोटा सा ...

                                               

गुड़ामालानी

गुड़ामालानी राजस्थान राज्य के बाड़मेर जिले का एक कस्बा है। इसे मालाणी क्षेत्र के नाम से जाना जाता है। बाड़मेर जिले की यह तहसील लूणी नदी के किनारे अवस्थित है। ग्राम पंचायत भाखरपुरा के खारवा गांव मगा की ढाणी तेल उत्पादन में विश्व प्रसिद्ध है वह शिव ...

                                               

मूठली

मूठली राजस्थान के बाड़मेर जिले की सिवाना तहसील में बालोतरा-जालोर राजमार्ग पर बसा हुआ है। सिवाना से 17 कि॰मी॰ और बालोतरा से 18 कि॰मी॰ व ब्रह्माजी मंदिर ब्रह्मधाम आसोतरा से मात्र 5 कि॰ की दूरी पर है। यहां से राज्यमार्ग 38 व राष्ट्रिय राजमार्ग 325 भ ...

                                               

कालू

कालू राजस्थान के बीकानेर जिले के अंतर्गत एक गाँव है। यह लूणकरनसर तहसील के अंतर्गत आता है जिसका पिन कोड 334602 है। कालू राजस्थान की राजधानी जयपुर से तक़रीबन २९२ किलोमीटर दूर है।

                                               

खमनोर

खमनोर भारत के राजस्थान राज्य का एक कस्बाई गांव है। राजसमंद जिले में स्थित इस गाँव का इतिहास हल्दी घाटी से संबंधित है। यहाँ मेवाड़ के राजा महाराणा प्रताप सिंह और मुगल शासक अकबर के बीच 15 जून 1576 को युद्ध हुआ जिस में 14000 से अधिक सैनिक मारे गए। अ ...

                                               

रावला मंडी

रावला मंडी राजस्थान के श्रीगंगानगर जिले का एक छोटा सा कस्बा है। यह रावला-घडसाना आंदोलन के कारण चर्चित हुआ।