ⓘ मुक्त ज्ञानकोश. क्या आप जानते हैं? पृष्ठ 158




                                               

अक्षीय झुकाव

अक्षीय झुकाव खगोलशास्त्र में किसी कक्षा में परिक्रमा करती खगोलीय वस्तु के घूर्णन अक्ष और उसकी कक्षा पर खड़े किसी काल्पनिक लम्ब के बीच बने कोण को कहते हैं। अगर किसी पृथ्वी जैसी गोल वस्तु की दोनों मुख हिलावाटों को देखा जाए - अपने अक्ष पर घूर्णन रोट ...

                                               

अधोबिंदु

अधोबिंदु किसी स्थान के ठीक नीचे खगोलीय गोले पर स्थित काल्पनिक बिंदु को कहते हैं। इस परिभाषा में नीचे का मतलब वह दिशा जिसमें गुरुत्वाकर्षण का बल खींच रहा हो। ध्यान दें कि अधोबिंदु से विप्रीय दिशा के बिंदु को शिरोबिंदु कहते हैं।

                                               

अधोरक्त खगोलशास्त्र

अधोरक्त या इन्फ्रारेड खगोलशास्त्र, खगोलशास्त्और खगोलभौतिकी की एक शाखा है जिसमें खगोलीय निकायों को इन्फ्रारेड प्रकाश में देखकर अध्ययन किया जाता है। सन १८०० में विलियम हरशॅल ने इन्फ्रारेड प्रकाश की खोज की और इसके तीन दशक बाद सन १८३० में अधोरक्त खगो ...

                                               

अपॉर्च्युनिटी रोवर

अपॉर्च्युनिटी, जिसे MER-B या MER-1, और उपनाम ऑप्पी के रूप में भी जाना जाता है, एक रोबोट रोवर है जो 2004 के शुरूआती दिनों से 2018 के अंत तक मंगल ग्रह पर सक्रिय था। 7 जुलाई 2003 को इसे नासा के मंगल अन्वेषण रोवर कार्यक्रम के भाग के रूप में लॉन्च किय ...

                                               

अमेंथीस चतुष्कोण

अमेंथीस चतुष्कोण, संयुक्त राज्य भूगर्भ सर्वेक्षण, खगोलभूविज्ञान अनुसंधान कार्यक्रम द्वारा इस्तेमाल के लिए मंगल ग्रह की 30 चतुष्कोणिय नक्शों की श्रृंखला में से एक है। अमेंथीस चतुष्कोण को MC-14 के रूप में भी जाना जाता है।

                                               

अमेज़ोनिस चतुष्कोण

अमेज़ोनिस चतुष्कोण, संयुक्त राज्य भूगर्भ सर्वेक्षण, खगोलभूविज्ञान अनुसंधान कार्यक्रम द्वारा इस्तेमाल के लिए मंगल ग्रह की 30 चतुष्कोणिय नक्शों की श्रृंखला में से एक है। अमेज़ोनिस चतुष्कोण को MC-8 के रूप में भी जाना जाता है।

                                               

अम्मीसाडुका की शुक्र पटलिका

अम्मीसाडुका की शुक्र पटलिका, शुक्र के खगोलीय प्रेक्षण के अभिलेख को संदर्भित करता है जो प्रथम सहस्राब्दी ईसा पूर्व से अनगिनत अंकन चाक पटलिकाओं के रूप में संरक्षित हुई चली आ रही है। माना गया है कि यह खगोलीय अभिलेख पहली बार सम्राट अम्मीसाडुका के शास ...

                                               

अयन गति

अयन गति या अयन चलन किसी घूर्णन करती खगोलीय वस्तु में गुरुत्वाकर्षक प्रभावों से अक्ष की ढलान में धीरे-धीरे होने वाले बदलाव को कहा जाता है। अगर किसी लट्टू को चलने के बाद उसकी डंडी को हल्का सा हिला दिया जाए तो घूर्णन करने के साथ-साथ थोड़ा सा झूमने भ ...

                                               

अरेबिया चतुष्कोण

अरेबिया चतुष्कोण, संयुक्त राज्य भूगर्भ सर्वेक्षण, खगोलभूविज्ञान अनुसंधान कार्यक्रम द्वारा इस्तेमाल के लिए मंगल ग्रह की 30 चतुष्कोणिय नक्शों की श्रृंखला में से एक है। अरेबिया चतुष्कोण को MC-12 के रूप में भी जाना जाता है।

                                               

अर्कनोइड (खगोलभूविज्ञान)

अर्कनोइड, खगोलभूविज्ञान में अज्ञात मूल की एक बड़ी संरचना है और वे मात्र शुक्र ग्रह की सतह पर ही पागई हैं। अर्कनोइड ने अपना नाम मकड़ी के जाले से समानता से पाया है। वे ऐसी दिखाई देती है जैसे संकेंद्रित अंडे को दरारों के एक जटिल नेटवर्क ने चारों ओर ...

                                               

अल्फा रीजियो

अल्फा रीजियो, 22°S, 5°E पर केन्द्रित लगभग 1500 किलोमीटर तक फैला शुक्र ग्रह का एक क्षेत्र है। यह 1964 में डिक गोल्डस्टीन द्वारा खोजा गया और उन्ही के द्वारा नामित हुआ था। यह नाम 1976 और 1979 के मध्य अंतर्राष्ट्रीय खगोलीय संघ के ग्रहीय प्रणाली नामकर ...

                                               

अल्बियोरिक्स (चंद्रमा)

अल्बियोरिक्स शनि का एक प्रतिगामी अनियमित उपग्रह है। यह 2000 में होल्मेन द्वारा खोजा गया और अस्थायी पदनाम S/2000 S 11 दिया गया।

                                               

अल्मागेस्ट

अल्मागेस्ट, सितारों और ग्रहीय पथों की प्रत्यक्ष गतियों पर दूसरी सदीं का एक गणितीय और खगोलीय ग्रंथ है | मिस्र के रोमन युग के एक विद्वान, क्लोडिअस टॉलेमी द्वारा यूनानी में लिखा गया, यह सभी समय के सबसे प्रभावशाली वैज्ञानिक ग्रंथों में से एक है | यह ...

                                               

अवर एवं वरिष्ठ ग्रह

वें ग्रह जिनकी कक्षाएं पृथ्वी की अपेक्षा सूर्य से नजदीक स्थित है अवर ग्रह कहलाते है। इसके विपरीत जिनकी कक्षाएं पृथ्वी की अपेक्षा सूर्य से दूर है वरिष्ठ ग्रह कहलाते है। इस प्रकार, बुध व शुक्र अवर ग्रह है और मंगल, बृहस्पति, शनि, यूरेनस और नेप्च्यून ...

                                               

आणविक बादल

खगोलशास्त्र में आणविक बादल अंतरतारकीय माध्यम में स्थित ऐसे अंतरतारकीय बादल को कहते हैं जिसका घनत्व और आकार अणुओं को बनाने के लिए पार्यप्त हो। अधिकतर यह अणु हाइड्रोजन के होते हैं, हालांकि आणविक बादलों में और भी प्रकार के अणु मिलते हैं। आणविक बादलो ...

                                               

आदिग्रह चक्र

आदिग्रह चक्र या प्रोटोप्लैनॅटेरी डिस्क या प्रॉपलिड एक नए जन्में तारे के इर्द-गिर्द घूमता घनी गैस का चक्र होता है। कभी-कभी इस चक्र में जगह-जगह पर पदार्थों का जमावड़ा हो जाने से पहले धूल के कण और फिर ग्रह जन्म ले लेते हैं।

                                               

आयपिज़ीया चतुष्कोण

आयपिज़ीया चतुष्कोण, संयुक्त राज्य भूगर्भ सर्वेक्षण, खगोलभूविज्ञान अनुसंधान कार्यक्रम द्वारा इस्तेमाल के लिए मंगल ग्रह की 30 चतुष्कोणिय नक्शों की श्रृंखला में से एक है। आयपिज़ीया चतुष्कोण को MC-21 के रूप में भी जाना जाता है।

                                               

आरगायरे चतुष्कोण

आरगायरे चतुष्कोण, संयुक्त राज्य भूगर्भ सर्वेक्षण, खगोलभूविज्ञान अनुसंधान कार्यक्रम द्वारा इस्तेमाल के लिए मंगल ग्रह की 30 चतुष्कोणिय नक्शों की श्रृंखला में से एक है। आरगायरे चतुष्कोण को MC-26 के रूप में भी जाना जाता है।

                                               

आरेसिबो वेधशाला

आरेसिबो वेधशाला Arecibo Observatory एक प्रकार की रेडियो दूरदर्शी है जो पुर्टो रिको के आरेसिबो शहर के नजदीक स्थापित की गई है। यह राष्ट्रीय विज्ञान फाउंडेशन के साथ सहयोग समझौते के तहत एस. आर.आई. इंटरनेशनल द्वारा संचालित है। इस वेधशाला को National A ...

                                               

आर्केडिया चतुष्कोण

आर्केडिया चतुष्कोण, संयुक्त राज्य भूगर्भ सर्वेक्षण, खगोलभूविज्ञान अनुसंधान कार्यक्रम द्वारा इस्तेमाल के लिए मंगल ग्रह की 30 चतुष्कोणिय नक्शों की श्रृंखला में से एक है। आर्केडिया चतुष्कोण को MC-3 के रूप में भी जाना जाता है।

                                               

आर्यभट्ट सिद्धान्त

आर्यभट्ट सिद्धांत प्रसिद्ध भारतीत गणितज्ञ आर्यभट्ट की लिखि पुस्तक थी। आज इसके मात्र 180 श्लोक ही उपलब्ध हैं। अपनी वृद्धावस्था में आर्यभट्ट ने आर्यभट्ट सिद्धांत के नाम से लिखी। यह दैनिक खगोलीय गणना और अनुष्ठानों के लिए शुभ मुहूर्त निश्चित करने के ...

                                               

इगेओन (चंद्रमा)

इगेओन, सेटर्न LIII से भी नामित, शनि का एक प्राकृतिक उपग्रह है। इसकी खोज की घोषणा 15 अगस्त 2008 को लिगए प्रेक्षणों के आधापर कैरोलिन पोर्को और कैसिनी इमेजिंग साइंस टीम द्वारा 3 मार्च 2009 को हुई थी। इगेओन शनि के G रिंग के चमकदार खंड के भीतर रहकर पर ...

                                               

इयोलीस चतुष्कोण

इयोलीस चतुष्कोण, संयुक्त राज्य भूगर्भ सर्वेक्षण, खगोलभूविज्ञान अनुसंधान कार्यक्रम द्वारा इस्तेमाल के लिए मंगल ग्रह की 30 चतुष्कोणिय नक्शों की श्रृंखला में से एक है। इयोलीस चतुष्कोण को MC-23 के रूप में भी जाना जाता है।

                                               

इश्तार टेरा

इश्तार टेरा, शुक्र ग्रह पर दो मुख्य उच्चभूम क्षेत्रों में से एक है। यह दो "महाद्वीपों" में छोटा है और उत्तरी ध्रुव के पास स्थित है। यह अकाडिनी देवी इश्तापर नामित है। इश्तार टेरा का आकार मोटे तौपर ऑस्ट्रेलिया और संयुक्त राज्य अमेरिका महाद्वीप के ब ...

                                               

इस्मेनियस लैकस चतुष्कोण

इस्मेनियस लैकस चतुष्कोण, संयुक्त राज्य भूगर्भ सर्वेक्षण, खगोलभूविज्ञान अनुसंधान कार्यक्रम द्वारा इस्तेमाल के लिए मंगल ग्रह की 30 चतुष्कोणिय नक्शों की श्रृंखला में से एक है। इस्मेनियस लैकस चतुष्कोण को MC-5 के रूप में भी जाना जाता है।

                                               

उपग्रही छल्ला

खगोलशास्त्र में उपग्रही छल्ला किसी ग्रह के इर्द गिर्द घूमता हुआ पत्थरों, धुल, बर्फ़ और अन्य पदार्थों का बना हुआ छल्ला होता है। हमारे सौर मण्डल में इसकी सबसे बड़ी मिसाल शनि की परिक्रमा करते हुए उसके छल्ले हैं। हमारे सौर मण्डल के अन्य तीन गैस दानव ...

                                               

उपदानव तारा

उपदानव तारा ऐसा तारा होता है जो मुख्य अनुक्रम के बौने तारों से तो अधिक चमकीला हो लेकिन इतनी भी चमक और द्रव्यमान रखता हो के दानव तारों की श्रेणी में आ सके। यर्कीज़ वर्णक्रम श्रेणीकरण में इसकी चमक की श्रेणी "IV" होती है। वॄश्चिक तारामंडल का सर्गस न ...

                                               

उपबौना तारा

उपबौना तारा ऐसा तारा होता है जो मुख्य अनुक्रम के बौने तारों से तो धीमी चमक रखता हो। यर्कीज़ वर्णक्रम श्रेणीकरण में इसकी चमक की श्रेणी "VI" होती है। इनका निरपेक्ष कांतिमान -१.५ से -२ मैग्निट्यूड का होता है।

                                               

उपसौर और अपसौर

उपसौऔर अपसौर, किसी ग्रह, क्षुद्रग्रह या धूमकेतु की अपनी कक्षा पर सूर्य से क्रमशः न्यूनतम और अधिकतम दूरी है। सौरमंडल में ग्रह सूर्य की परिक्रमा करते है, कुछ ग्रहों की कक्षाएं करीब-करीब पूर्ण वृत्ताकार होती है, लेकिन कुछ की नहीं।| कुछ कक्षाओं के आक ...

                                               

एंथे (चंद्रमा)

एंथे, शनि का एक प्राकृतिक उपग्रह है। यह माइमस और ऍनसॅलअडस की कक्षाओं के बीच स्थित है। यह सेटर्न XLIX तौपर भी नामित है। इसका अस्थायी पदनाम S/2007 S 4 है। 30 मई 2007 को एंथे की ली गई तस्वीरों से इसे कैसिनी इमेजिंग टीम द्वारा खोजा गया। यह कभी जून 20 ...

                                               

एटलस (चंद्रमा)

एटलस, शनि का एक आतंरिक उपग्रह है। यह 1980 में वॉयेजर से मिली छवियों से रिचर्ड टेराइल द्वारा खोजा गया तथा S/1980 S 28 से पदनामित हुआ। यह 1983 में अधिकारिक तौपर ग्रीक पौराणिक पात्र एटलस पर नामित हुआ था क्योंकि यह छल्लों को अपने कंधो पर ठीक वैसे ही ...

                                               

एन. जी. सी.

खगोल विज्ञान में एन. जी. सी. दूरस्थ स्थित आकाशीय पिंडो की एक सूची है, जिसमे ७,८४० पिंड सम्मिलित है, जिसे प्रायः एन. जी. सी. पिंड कहा जाता है। एन. जी. सी. सभी प्रकार के दूरस्थ स्थित पिंडो से संबंधित व्यापक सूची है ना कि यह केवल आकाशगंगाओं के लिए स ...

                                               

एपिमेथियस (चंद्रमा)

एपिमेथियस, शनि का एक आतंरिक उपग्रह है। यह सेटर्न XI तौपर भी जाना जाता है। यह पौराणिक पात्र एपिमेथियस पर नामित हुआ है जो कि प्रोमेथियस का भाई है।

                                               

एफ्रोडाईट टेरा

एफ्रोडाईट टेरा, शुक्र ग्रह पर भूमध्य रेखा के पास का एक उच्चभूम क्षेत्र है। यह प्यार की देवी पर नामित है जो कि शुक्र के रोमन देवता ग्रीक के समकक्ष है। यह आकार में लगभग अफ्रीका के बराबर और इश्तार टेरा से बहुत मामूली है। सतह झुकी हुई और टूटीफूटी नजर ...

                                               

एरिडेनीया चतुष्कोण

एरिडेनीया चतुष्कोण, संयुक्त राज्य भूगर्भ सर्वेक्षण, खगोलभूविज्ञान अनुसंधान कार्यक्रम द्वारा इस्तेमाल के लिए मंगल ग्रह की 30 चतुष्कोणिय नक्शों की श्रृंखला में से एक है। एरिडेनीया चतुष्कोण को MC-29 के रूप में भी जाना जाता है।

                                               

एरियपस (चंद्रमा)

एरियपस, या सेटर्न;XXVIII, शनि का एक प्रतिगामी अनियमित उपग्रह है। It was discovered by Brett Gladman, John J. Kavelaars, et al. in 2000, and given the temporary designation S/2000 S 10. It was named Erriapo in August 2003 after Erriapus, a giant i ...

                                               

एलीसियम चतुष्कोण

एलीसियम चतुष्कोण, संयुक्त राज्य भूगर्भ सर्वेक्षण, खगोलभूविज्ञान अनुसंधान कार्यक्रम द्वारा इस्तेमाल के लिए मंगल ग्रह की 30 चतुष्कोणिय नक्शों की शृंखला में से एक है। एलीसियम चतुष्कोण को MC-15 के रूप में भी जाना जाता है।

                                               

ऐजराक (चंद्रमा)

ऐजराक, या सेटर्न XXII, शनि का छोटा प्रतिगामी अनियमित उपग्रह है। इसकी खोज ब्रेट जे. ग्लैडमेन, जॉन जे. कावेलार्स के दल द्वारा 2000 में हुई थी और उसे अस्थायी पदनाम S/2000 S 6 दिया था। यह 2003 में इनुइट पौराणिक कथाओं के एक जीव ऐजराक पर नामित हुआ था।

                                               

ऑक्सिया पैलस चतुष्कोण

ऑक्सिया पैलस चतुष्कोण, संयुक्त राज्य भूगर्भ सर्वेक्षण, खगोलभूविज्ञान अनुसंधान कार्यक्रम द्वारा इस्तेमाल के लिए मंगल ग्रह की 30 चतुष्कोणिय नक्शों की श्रृंखला में से एक है। ऑक्सिया पैलस चतुष्कोण को MC-11 के रूप में भी जाना जाता है।

                                               

और्ट बादल

और्ट बादल या और्ट क्लाउड एक गोले के रूप का धूमकेतुओं का बादल है जो सूर्य से लगभग एक प्रकाश-वर्ष के दूरी पर हमारे सौर मण्डल को घेरे हुए है। इसमें अरबों की संख्या में धूमकेतु हैं। खगोलीय इकाई में एक प्रकाश वर्ष लगभग ५०,००० ख॰ई॰ होता है, यानि और्ट ब ...

                                               

कक्षा (भौतिकी)

भौतिकी में कक्षा या ऑर्बिट दिक् में स्थित एक बिंदु के इर्द-गिर्द एक मार्ग को कहते हैं जिसपर चलकर कोई वस्तु उस बिंदु की परिक्रमा करती है। खगोलशास्त्र में अक्सर उस बिंदु पर कोई बड़ा तारा या ग्रह स्थित होता है जिसके इर्द-गिर्द कोई छोटा ग्रह या उपग्र ...

                                               

कक्षीय अनुनाद

कक्षीय अनुनाद पाया जाता है जब दो या दो से अधिक पिंड किसी एक ही बड़े पिंड की परिक्रमा समान अवधि में पूरी करते है। उदाहरण के लिए बृहस्पति के उपग्रहों गेनिमेड, युरोपा और आयो का 1: 2: 4 का अनुनाद, तथा प्लुटो और नेप्च्यून के बीच 2: 3 का अनुनाद। आयो, य ...

                                               

कक्षीय झुकाव

कक्षीय झुकाव खगोलशास्त्र में किसी वस्तु की परिक्रमा कक्षा का किसी अन्य वस्तु या वस्तुओं की परिक्रमा कक्षा से बनने वाला कोण है। मसलन बुध ग्रह का कक्ष पृथ्वी के कक्ष से ७.०१° के झुकाव पर है। अगर पृथ्वी के सूर्य के इर्द-गिर्द परिक्रमा कक्ष को एक समत ...

                                               

कक्षीय विकेन्द्रता

किसी खगोलीय पिंड की कक्षीय विकेन्द्रता वह राशि है जिसके द्वारा उसकी कक्षा एक पूर्ण वृत्त से विचलित हो जाती है। जहां शून्य एक पूर्ण वृत्त है और १.० एक परवलय है। इसे अंग्रेजी अक्षर e से प्रदर्शित किया जाता है। विकेन्द्रता निम्न मान ले सकती है: वृत् ...

                                               

काइपर घेरा

काइपर घेरा, काइपर-ऍजवर्थ घेरा या काइपर बॅल्ट हमारे सौर मण्डल का एक बाहरी क्षेत्र है जो वरुण ग्रह की कक्षा से लेकर सूर्य से ५५ ख॰इ॰ तक फैला हुआ है। क्षुद्रग्रह घेरे की तरह इसमें भी हज़ारों-लाखों छोटी-बड़ी खगोलीय वस्तुएँ हैं जो सौर मण्डल के ग्रहों ...

                                               

काला बौना

खगोलशास्त्र में काला बौना या ब्लैक ड्वार्फ़ एक बचे-कुचे तारे को बोला जाता है जो बहुत घना हो और जिस से रौशनी और गरमी न आ रही हो या बहुत की कम मात्रा में आ रही हो। वैज्ञानिकों का मानना है के सफ़ेद बौने तारे अरबों सालों में ठन्डे पड़कर काले बौने बन ...

                                               

किवियक (चंद्रमा)

किवियक, शनि का एक प्रतिगामी अनियमित उपग्रह है। इसे 2000 में ब्रेट जे ग्लैडमेन ने खोजा और अस्थायी पदनाम S/2000 S 5 दिया। यह पौराणिक इनुइट नायक किवियक पर नामित है।

                                               

केप्लर-452

केप्लर-452 नामक तारा एक जी श्रेणी का तारा है जो पृथ्वी से 1400 प्रकाशवर्ष दूर है। यह सिग्नस नामक तारामंडल में स्थित है। इसका तापमान सूर्य के तापमान के लगभग बराबर है। इसकी आयु लगभग ६ अरब वर्ष है और यह सूर्य से 150 करोड़ वर्ष पुराना है और सूर्य की ...

                                               

केलिप्सो (चंद्रमा)

केलिप्सो, शनि का प्राकृतिक उपग्रह है। यह 1980 मे डान पास्कु, पी कैनिथ सीडलमेन, विलियम ए बौम और डगलस जी क्युरी द्वारा भूआधारित प्रेक्षणों से खोजा गया तथा S/1980 S 25 पदनाम से नवाजा गया । बाद के महीनों में, कई अन्य छद्मवेषी प्रेक्षित हुए यथा: S/198 ...

                                               

कैब्रेनिया चतुष्कोण

कैब्रेनिया चतुष्कोण, संयुक्त राज्य भूगर्भ सर्वेक्षण, खगोलभूविज्ञान अनुसंधान कार्यक्रम द्वारा इस्तेमाल के लिए मंगल ग्रह की 30 चतुष्कोणिय नक्शों की श्रृंखला में से एक है। कैब्रेनिया चतुष्कोण को MC-7 के रूप में भी जाना जाता है।